पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
 
 
 पहला पन्ना
 

 
 विचार 
युद्ध के विरुद्ध
आज दुनिया में अधिकांश धनकुबेरों की संपत्ति का बड़ा स्रोत हथियारों की बिक्री है. विश्वभर में आंतकवाद, हिंसा, युद्ध और साम्राज्यवाद शोषण और पूंजीवाद बंदूक की नली से निकल रहे हैं. भले ही एक जमाने में माओ ने कहा था कि सत्ता बंदूक की नली से निकलती है परन्तु सच्चाई यह है कि अब बंदूक की नली से विषमता और पूंजीवाद, युद्ध और हिंसा, नवसाम्राज्यवाद और नवपूंजीवाद निकल रहा है.
रघु ठाकुर का लेख
 
 विचार 
किसके साथ किसका विकास
क्या हम उसी रास्ते पर देश को ले जा रहे हैं, जिस पर चल कर 2014 में यूरोप और अमरीका वर्तमान कंगाली की कगार पर हैं. इन्हीं पैमानो पर चलकर एशियाई शेर देश अभी भी घायल है या किसी अंतर्राष्ट्रीय उपनिवेश की छांव तले बैठे हुए अपने घाव चाट रहे हैं. इनके घावों एवं अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय संस्थानों की छावों, दोनों का क्रमश: विकास हो रहा है. सबके साथ सबके विकास का यह दृश्य काफी डरावना है.
प्रदीप शर्मा के विचार
     
 विचार 
‘मोदीसन‘ चौराहे का पाथेय?
अचरज और संयोग के साथ नरेंद्र मोदी का सौभाग्य उनके लिए लोकसभा में स्पष्ट बहुमत ले आया. इस राजनीतिक ताकत का पूंजीनिवेश आत्मनिर्भरता के बदले परावलम्बन के लिहाफ में जकड़ा जा रहा है. संवाद निपुण मोदी नकारात्मक पक्ष को सकारात्मक बनाकर उनके लिए बेहतर परोसते हैं जिनका आर्थिक हाजमा भारत की विकराल गरीबी के सन्दर्भ में इतना अच्छा है कि अकूत दौलत उदरस्थ कर लेते हैं
कनक तिवारी के विचार
 
 विचार 
वैचारिक सफाई ही बापू को सच्ची श्रद्धांजलि
आज जब गोडसे को मानने वाली विचारधारा हावी होती दिखाई दे रही है और ‘लव-जिहाद’ जैसे काल्पनिक और सांप्रदायिक मुद्दों को लहकाया जा रहा है तब अमन और मोहब्बत पसंद हर धर्म, संप्रदाय और जाति के लिए यह बहुत आवश्यक है कि वह गांधी के जीवन संघर्ष और संदेश को समझे, हम इंसानियत में उसके भरोसे को समझने का प्रयास करें. और इसके लिये बाहरी सफाई के साथ-साथ कहीं ज्यादा जरुरी वैचारिक सफाई है.
मनीष शांडिल्य के विचार
     
 विचार 
अंग्रेजी दूतों का दिलचस्प हिंदी प्रेम
अंग्रेजी माध्यमों से पढ़ कर नौकरशाही में आए लोगों को जब दिल्ली दरबार अचानक हिंदी में काम करने का फरमान सुनाता है तो हम हिंदी-प्रेमी मुग्ध हो जाते हैं. उत्तर भारत में जो हिंदी प्रेम का गाना गा रहे हैं, उनमें से शायद ही किसी के बच्चे हिंदी स्कूल में पढ़ते होंगे. अपने बच्चों को अंग्रेजी स्कूलों में पढ़ाने वाले उम्मीद करते हैं कि मिजोरम और चेन्नई वासी हिंदी बोलें.
मृणाल वल्लरी का विश्लेषण
 
 विचार 
खतरे में है मनरेगा
ग्रामीण गरीबों और कमजोर समुदायों का आर्थिक, राजनैतिक और सामाजिक सशक्तिकरण का कार्यक्रम मनरेगा अब खतरे में है. भाजपा-मोदी के इस रूख को समझना मुश्किल नहीं है. चुनाव में उसने बेरोजगारों को रोजगार देने का वादा किया था लेकिन वह तो चुनावी हितों से प्रेरित था. सत्ता में आने के बाद यदि इन चुनावी वादों को पूरा करने जाएँ तो कार्पोरेटों के हितों पर चोट पहुंचती है.
संजय पराते का विश्लेषण
 
     
 

खबरें और भी हैं

गौड़ा ने बढ़ी संपत्ति पर सफाई दी
पान दुकान का बिल 132 करोड़ रुपए
चार हवाई अड्डों पर हाईअलर्ट जारी
कालेधन पर सभी नाम घोषित हों: कांग्रेस
मुक्केबाज सरिता देवी पर प्रतिबंध
फरीदाबाद: आग से 200 पटाखा दुकानें खाक
मनोहर लाल खट्टर हरियाणा के सीएम होंगे
भाजपा को समर्थन देगी राकांपा
ईबोला से निपटने को तैयार अमरीका
 
     
 

 
     
 
       


   
 

इरफान इंजीनियर

 
 
यह किसका विकास है




Domains for Just Rs.99/yr Limited Time offer!
2 FREE Email Accounts and other Free services worth Rs.5000 with every Domain

 
         
 मुद्दा 
बेशक, बेझिझक, बिंदास हिंदी बोलिए!
हमें अंग्रेजी नहीं जानने-बोलने के कारण नहीं, बल्कि हिंदी या अपनी मातृभाषा नहीं जानने-बोलने के कारण शर्मिंदा महसूस करने की जरूरत है आप भले हवाई जहाज या राजधानी एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे हों- अपने सहयात्रियों से हिंदी में नि:संकोच बात करके देखिए, आपका खुद से ओढ़ा हुआ अकेलापन छूमंतर हो जाएगा! इसलिए इंगलिश-विंगलिश नहीं; बेशक, बेझिझक, बिंदास हिंदी बोलिए!!!
राहुल राजेश के विचार
 
 मुद्दा 
इक्कीसवीं सदी का कचरा
पिछले कुछ वर्षों से दुनियाभर में निश्चित रूप से पर्यावरण के बारे में जागरूकता काफी बढी है और यह शुभ संकेत है. एक ऐसे समय में जब पूरी पृथ्वी प्रदूषण के दुष्प्रभावों को झेल रहा है. हमें पर्यावरण के मुद्दे को गंभीरता से लेकर पर्यावरण सुरक्षा पर ध्यान देना चाहिए ताकि आने वाली पीढी के लिए हम अपने इस सबसे सुंदर ग्रह पृथ्वी को सुरक्षित रख सकें.
डॉ. गरिमा भाटिया का विश्लेषण
 
 आधी दुनिया 
वह सुबह कभी तो आएगी
क्या हम कह सकते हैं कि अपनी कमियाँ मानने से शर्माए बिना सरकार चलाई जाएगी, वह सुबह कभी तो आएगी! अगर बु्द्धिजीवियों से पूछो तो वह कहेंगे कि हमारी संस्कृति में यह नहीं था, यह तो औपनिवेशिक काल की देन है. कुछ और हमें बतलाएँगे कि स्त्रियों के साथ हिंसा जैसी घटनाएँ तो दीगर मुल्कों में सरेआम होती रहती हैं. उन्हें हमारी ओर उँगली उठाने की जगह अपनी ओर देखना चाहिए
लाल्टू के विचार
         
 मुद्दा 
मीडिया में जंगल की जमीन
आदिवासियों के कारण जंगलों का नुक्सान नहीं होता. आदिवासी तो अपनी जरूरत के मुताबिक लकड़ी और वनोपज लेता है. उसके घर में तो आप साल और सागौन के फर्नीचर नहीं पाएंगे. उसके जीवन में तो कोई बड़ा बदलाव नहीं दिखता. लोहा, कोयला के अलावा लघु वनोपज के आधार पर देखें तो इस देश में सर्वाधिक संपन्न तबका तो आदिवासियों को होना चाहिए, लेकिन उनके पास आज बुनियादी सुविधाएं तक नहीं हैं.
सुदीप ठाकुर का लेख
 
 राष्ट्र 
‘मर्दाना नीतियों’ के निहितार्थ
नरेंद्र मोदी ने देश की सत्ता संभालने के साथ पड़ोसी देशों से दोस्ताना दौर शुरू होने का जो माहौल बनाया, वह अब तिरोहित हो चुका है. पाकिस्तान और चीन के संदर्भ में तो यह बात पूरी तरह लागू होती है. पिछले साढ़े चार महीनों में इन दोनों देशों के साथ संबंध पहले से ज्यादा बिगड़ गए हैँ. इसके साथ यह प्रश्न खड़ा हुआ है कि आखिर इस मर्दाना नीति के दूरगामी परिणाम क्या होंगे?
सत्येंद्र रंजन का विश्लेषण
 
 विचार 
युद्ध के विरुद्ध
आज दुनिया में अधिकांश धनकुबेरों की संपत्ति का बड़ा स्रोत हथियारों की बिक्री है. विश्वभर में आंतकवाद, हिंसा, युद्ध और साम्राज्यवाद शोषण और पूंजीवाद बंदूक की नली से निकल रहे हैं. भले ही एक जमाने में माओ ने कहा था कि सत्ता बंदूक की नली से निकलती है परन्तु सच्चाई यह है कि अब बंदूक की नली से विषमता और पूंजीवाद, युद्ध और हिंसा, नवसाम्राज्यवाद और नवपूंजीवाद निकल रहा है.
रघु ठाकुर का लेख
             
 विचार 
जन आंदोलन की जगह
आंदोलन नहीं होते तो हम आज आजाद नहीं होते. कल तक देश की सत्ता पर थोड़े से घरानों का राज था और अब इन पर कंपनियों का भी राज हो गया है. ऐसे में कोई कब तक चुप बैठे. इस दमनचक्र के चलते देश के जिन किसानों, मजदूरों, दलितों, आदिवासियों और वंचितों का वजूद ही खतरों में पड़ गया है.
प्रसून लतांत के विचार
 
 बहस 
दंगे और इंसाफ की लाचारी
भारत में राज्य प्रायोजित हिंसा की रपट पुलिस थानों में पीड़ित व्यक्ति दर्ज़ कराने की हिम्मत नहीं रखता. वह थाने जाता है तो जान माल की धमकी मिलती है, जो क्रियान्वित की जा सकती है. किसी तरह प्राथमिकी दर्ज़ भी कर ली गई, तब भी जांच तो थाने अधिकारियों को ही करनी होती है. कनक तिवारी के विचार
 
 मुद्दा 
हा हा भारत दुर्दशा देखी न जाई!
यह बात हम सब बेहतर जानते हैं कि यूरोप के लोगों को अपनी ग़लतियों को समझने के लिए पिछली सदी में भयंकर तबाही और विनाश से गुजरना पड़ा. जो आज मोदी और संघ परिवार के समर्थन में हैं, देर सबेर वो अपनी ग़लती समझेंगे, पर तब तक देर हो चुकी होगी. लाल्टू के विचार
 
 राजनीति 
उम्र का उन्माद
इस बात को बार-बार दोहराए जाने की जरूरत महसूस होती है कि आधुनिकता का संबंध विचार से होता है. वह किसी तरह के नये रूप-रंग में नहीं निहित होती है. युवा उतना ही रूढ़ीवादी हो सकता है, जितना कोई बुजुर्ग. और कोई उम्र की आखिरी देहलीज पर भी आधुनिक हो सकता है. अनिल चमड़िया के विचार
             
 

लाल्टू

तीन कविताएं

रेत का पुल

मोहन राणा

कुतुब एक्सप्रेस

रामकुमार तिवारी

पंखुरी सिन्हा

तीन कविताएं

अरविंद कुमार

बृहत् समांतर कोश का आविर्भाव

 
 

  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in