पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > Print | Send to Friend | Share This 

अमरीका का दोगलापन

विचार

 

अमरीका का दोगलापन

डॉ. सुभाष राय


फरहा पंडित भारतीय मूल की अमरिकी मुसलमान हैं. उन्हें ओबामा ने बहुत महत्वपूर्ण काम सौंपा है. उन्हें दुनिया को यह समझाना है कि अमरीका मुसलमानों का दुश्मन नहीं है. अमरीका में मुसलमानों को उतना ही सम्मान मिलता है, जितना किसी अमरीकी को. वह न तो मुसलमान कौम को आतंकवादी मानता है, न ही इस्लाम को. अमरीका जो कर रहा है, उसे देखते हुए यह बड़ा कठिन काम है. पर फरहा पंडित ने ठान लिया है कि वे यह असम्भव भी सम्भव कर दिखायेंगी.

वे फरहा भी हैं और पंडित भी, शायद इसलिये उन्होंने इतनी हिम्मत की है. 25 देशों की यात्रा करने और हजारों मुस्लिम युवाओं, बुद्धिजीवियों से मुलाकात करने के बाद उन्हें इलहाम हुआ है कि यह समझना गलत होगा कि भारत के सभी 16 करोड़ मुसलमान आतंकवादी हैं. गिने-चुने लोगों के गलत रास्ते पर चले जाने से किसी को यह कहने का आधार नहीं मिल जाता कि मुस्लिम कौम आतंकवादी हैं. समझ में नहीं आता कि उन्हें भारत के मुसलमानों को लेकर इतनी बेचैनी क्यों हुई? क्या वे भारत के मुसलमनों को ही सबसे ज्यादा परेशान देख रहीं हैं? क्या पकिस्तान के मुसलमान बहुत कुशल से हैं, उन्हें अमरीका से कोई गिला नहीं? क्या ईरान, इराक, अफगानिस्तान, यमन, फलस्तीन के मुसलमान दादा ओबामा से बहुत प्रसन्न हैं? क्या उन्हें भूल गया कि जार्ज बुश पर जूता कहां फेंका गया था और किन लोगों ने जूते फेंकने वाले पत्रकार को मुस्लिम जगत का हीरो बना दिया था? और क्यों?

किसे नहीं याद है कि भारत के राष्ट्रपति पद पर रह चुके और विश्व के शीर्ष नाभिकीय वैज्ञानिकों में शुमार किये जाने वाले अब्दुल कलाम को अमेरिका यात्रा के दौरान जामा तलाशी देनी पड़ी थी

दरअसल अमरीका के कई चेहरे हैं. आतंकवाद और मुसलमानों को लेकर वह दुनिया के अलग-अलग इलाकों के लिए अलग-अलग मानक रखता है. वह तालिबान से तो लड़ता हुआ दिखता है पर भारत में दहशतगर्दी के लिए जिम्मेदार आतंकवादी संगठनों के बारे में परम मौन बनाये रखता है. वह भारत को खुश रखना चाहता है क्योंकि भारत उसके अनुपयोगी और बेकार माल का सबसे बड़ा खरीदार है, लेकिन पाकिस्तान को भी नाराज नहीं करना चाहता क्योंकि पाकिस्तान की मदद के बिना वह तालिबान से लड़ नहीं सकता. वह मंदी की मार से भयानक रूप से त्रस्त है लेकिन अभी भी वह अपने को दुनिया का सबसे बड़ा दादा समझने का भ्रम छोड़ नहीं पाया है. इतिहास ने कई बार उसे मनमानी करते देखा है.

अमरीका ने जिस तरह मुस्लिम जगत में एक बहादुर बादशाह के रूप में विख्यात सद्दाम हुसैन को मार-मार कर कर गड्ढे में छिपने के लिए मजबूर कर दिया, बाद में उन्हें खोदकर निकाला और इराक की सत्ता में बैठाये गये अपने ही भाड़े के हत्यारों के हवाले कर दिया, वह आखिर मुसलमनों को कैसे भूल सकता है? हो सकता है सद्दाम बहुत न्यायप्रिय और लोकप्रिय शासक न रहे हों, हो सकता है कि उनकी तानाशाही से इराक के लोग तंग आ गये रहे हों, पर इस नाते अमरीका को यह अधिकार कैसे मिल सकता है कि वह उनका सफाया कर दे. मानव संहारक अस्त्र होने के जिस अन्देशे को आधार बनाकर सद्दाम और उनके देश को तबाह कर दिया गया, वे निराधार निकले. क्या यह मनुष्यता के प्रति अपराध नहीं है? क्या इसका सौ प्रतिशत कुसूर अमरीका पर नहीं मढ़ा जाना चाहिये?

अमरीका की फरहा पंडित जिस भाषा में बोल रहीं हैं, उससे लगता है कि या तो अमरीका मुसलमानों से अचानक रीझ गया है या फिर लड़ते-लड़ते थक गया है. सच क्या है, समझ में नहीं आता. एक तरफ तो अमरीकी अफसरान आम मुस्लिम यात्रियों को भी अमरीका में घुसने देने से रोकने की पूरी कोशिश करते हैं, हर मुसलमान पर आतंकवादी होने का शक करते हैं और अगर किसी को प्रवेश मिलता भी है तो भारी अपमान सहकर, वहीं दूसरी तरफ वे ऐसी बातें करते हैं, जैसे मुसलमानों के लिये उनके मन में प्रेम का महासागर उमड़ रहा हो.
आगे पढ़ें

Pages:
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

आशुतोष कुमार सिंह (zashusingh@gmail.com)

 
 अमेरिका के कथनी और करनी को दुनिया समझ चुकी है. अब अमेरिका को कम से कम यह तो समझ ही लेना चाहिए की वह दुनिया के आवाम को मूर्ख नहीं बना सकता है. अगर संच में अमेरिका को मुसलमान भाईयों के प्रति हमदर्दी दिखाना है तो सबसे पहले उसे सद्दाम हुसैन के साथ किए गए अपने क्रूर व्यवहार के लिए ईराकी जनता से मांफी मांगनी चाहिए. स्व.पं. श्रीराम शर्मा आचार्य कह गए हैं कि, कथनी-करनी भिन्न जहां धर्म नहीं पाखंड वहां. सुभाष भैया को बहुत-बहुत धन्यवाद. 
   
 

banshidhar mishra (m.banshidhar@gmail.com) jhansi

 
 राय साहब सुंदर लेख के लिए साधुवाद अमेरिका का इतिहास ही नस्लभेदी हिंसा दास प्रथा और साम्राज्यवादी अत्याचार से भरा पड़ा है. वह साम्राज्यवाद के विस्तार के लिए नित नए हथकंडे अपनाता रहता है. फरहा पंडित भी उसकी इसी चाल का एक मोहरा हैं.  
   
 

ajay yadav (kyadav.ajay @ gmail.com) kanpur

 
 बहुत ठीक लिखा. सच यही है अमेरिका डर का कारोबारी है और मुसलमान उसके लिए खौफ की डुगडुगी है जिसे बजाकर वह तमंचे बेचता है.  
   
 

Anish Ahmedabda

 
 डॉ. सुभाष रॉय, प्रथम तो आपका दिल से धन्यवाद. आज विश्व में नफरत के काबिल कोई मुल्क है तो सिर्फ अमरीका. 
   
 

shahroz (shahroz_wr@yahoo.com) delhi

 
 बेशक भारत में कुछ अतिराष्ट्रवादी ताकतें हैं जो मुस्लिम विरोधी माहौल बनाने का प्रयास करती रहती हैं लेकिन हाल के वर्षों में उनके चेहरे से भी नकाब उठ गयी है. वे कटघरे में हैं, उन्हें कई मौकों पर पहचाना गया है, रंगेहाथ पकड़ा गया है और अब उनके माथे में भी यह बात आने लगी है कि केवल लोगों को भड़काकर, लड़ाकर बहुत लम्बे समय तक फायदा नहीं लिया जा सकता. आम भारतीय सांप्रदायिक नहीं है, बस उसमें इतनी कमी है कि वह कई बार षड्यंत्रकारी इरादों वाले दुराग्रही लोगों के हाथों इस्तेमाल हो जाता है. पर अब उसकी आंखें भी खुल गयी है, वह भी अपने दुश्मनों को पहचानने लगा है.

भारत में मुसलमानों को लेकर उनकी पूरी कौम के बारे में या इस्लाम के बारे में कोई ऐसी छवि नहीं है जैसे सारे के सारे मुसलमान आतंकवादी हों. मुसलमान भी इस सच को जानता है. इसीलिए आतंकवादियों को शायद उस तरह का समर्थन और सहयोग कम से कम मैदानी भारत में तो अब नहीं मिलता, जैसा कश्मीर में संभव हो पाता है.
 
   
 

अविनाश वाचस्‍पति (avinashvachaspati@gmail.com) नई दिल्‍ली

 
 डॉ. सुभाष राय ने जिस तरह तथ्‍यपूर्ण तरीके से अमेरिका के घाघपन का आकलन कर उसे नंगा करने का प्रयास किया है, वो तरीका लाजवाब है।  
   
 

satyendra bareilly

 
 आदरणीय सुभाष जी, एक बेहतर लेख के लिए बधाई। दरअसल असली समस्या आतंकवाद को लेकर है। आतंकवाद कोई व्यक्ति, कौम अथवा समाज नहीं है। यह एक विचारधारा सभी समाज, समुदाय अथवा राष्ट् में किसी न किसी रूप में मौजूद है। इसे संयोग कहेंगे की गिने-चुने कुछ मुस्लिम बाहुल्य राष्ट्रों में इसका अतिवादी स्वरूप देखने को मिल रहा है। इसे पल्लवित-पुष्पित करने में भी अमेरिका का ही हाथ है। याद करिए अफगानिस्तान का वह दौर जब उसे सोवियत प्रभुत्व से मुक्त कराने के लिए अमेरिकान तालिबानों की फौज खड़ी की थी।

आज जब मियां की जूती मियां के सिर पड़ी तो उसे आतंकवाद की याद आ रही है। आतंकवाद के खिलाफ अमेरिका की लड़ाई वास्तविकता कम दिखावा ज्यादा है। और लड़ाई का जो पैटर्न है वह राजनीतिक कम धार्मिक ज्यादा हो गया है। जहां क्रूस और स्टार एक-दूसरे के आमने सामने हैं। अमेरिका आज भी आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई नहीं लड़ रहा है। सच तो यह है कि वह आतंकवाद का अपने हित में इस्तेमाल कर रहा है। और दुख इस बात का है कि उसकी इस शतरंजी चाल की ओर किसी का ध्यान नहीं है।
 
   

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in