पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > Print | Send to Friend | Share This 

कहां से आये इतने अरबपति

मुद्दा

 

कहां से आये इतने अरबपति

प्रीतीश नंदी


इस समय हम हिंदुस्तान में डॉलर अरबपतियों की बढ़ रही संख्या का जश्न मना रहे हैं. हमारे मुताबिक यह वैश्विक अर्थव्यवस्था में हमारे बढ़ते दखल का संकेत है और हमारी समृद्धि का प्रमाण भी. संरचनागत सुधारों के मार्फत हमारी अर्थव्यवस्था में आमूल-चूल परिवर्तन हो रहा है.

सरकार के इन दावों का आधार यही है कि दूसरी बार यूपीए की सरकार ने राष्ट्र के आर्थिक ढांचे में सुधार के लिए जितने प्रयास किए हैं, उतना और किसी ने नहीं किया. इस दावे में कितनी सच्चई है? क्या सचमुच हिंदुस्तान ने इतनी सारी संपदा पैदा कर दी है और अगर की है तो किस उद्देश्य से की है?

ऐसा दावा है कि वैश्विक आर्थिक मंदी के पहले पूरी दुनिया में डॉलर अरबपतियों के मामले में भारत रूस के बाद दूसरे नंबर पर था. अब हमारे प्रधानमंत्री के एक आर्थिक सलाहकार कहते हैं कि संभवत: हम ऐसे देश हैं, जहां ऐसे अरबपतियों की संख्या सबसे ज्यादा है.

अचानक इतने सारे अरबपति कहां से पैदा हो गए? क्या वे सॉफ्टवेअर उद्यमी हैं? नहीं. क्या वे रचनात्मक व्यवसाय से ताल्लुक रखने वाले हैं? नहीं. क्या वे मीडिया के लोग हैं? नहीं. क्या हमने गूगल, फेसबुक या ट्विटर बनाया है? नहीं. विश्व के सर्वश्रेष्ठ १क्क् ब्रांडों में कितने हमारे हैं? टाटा और संभवत: एयरटेल को छोड़कर शायद ही कोई ऐसा वैश्विक ब्रांड है.

प्रतिवर्ष हम कितने नए आविष्कार और वैश्विक स्तर के पेंटेंट रजिस्टर करते हैं? आप उनकी संख्या अपनी उंगलियों पर गिन सकते हैं. फिर इतनी विपुल धन-संपदा कहां से आ गई? बिल्कुल उसी तरह, जिस तरह रूसी अरबपतियों ने अपनी संपदा का निर्माण किया. सत्ता और जोड़गांठ के कामों में लगे हुए लोगों से नजदीकियां बनाकर, उन चीजों को हथियाकर जो दरअसल हमारी और आपकी हैं. हिंदुस्तान के समस्त नए धन का अधिकांश हिस्सा संदिग्ध जमीनों, रियल इस्टेट के धंधे, गैरकानूनी खनन, सरकारी ठेकों, विशेष आर्थिक क्षेत्रों, जो कभी अस्तित्व में आ ही नहीं सके, से आ रहा है.

दरअसल उन विशेष आर्थिक क्षेत्रों को अस्तित्व में लाना मकसद था भी नहीं, बल्कि उसका मकसद गरीब किसानों और उससे भी ज्यादा गरीब आदिवासियों को विस्थापित कर राज्य से मुनाफा वसूलना था. हम दुनिया की सबसे ऊंची इमारतों से मुकाबला करने के लिए 117 मंजिल वाले ऊंचे टॉवर खड़े कर रहे हैं, जबकि हमारे शहरों में पर्याप्त बिजली, पानी, पार्क, सड़कें और सार्वजनिक परिवहन की भी कोई व्यवस्था नहीं है. इन ऊंचे-ऊंचे टॉवरों के फ्लैट कौन खरीद रहा है? ये फ्लैट वे लोग खरीद रहे हैं, जो कानूनों को तोड़ते-मरोड़ते हैं, जो मंजूरी देते हैं.

जो यह मुमकिन बनाते हैं कि ये ऊंचे टॉवर खड़े किए जा सकें. ये वे लोग हैं, जो ये सुनिश्चित करते हैं कि मुझसे और आपसे पानी और बिजली छीनकर इन टॉवरों तक पहुंचाई जा सके. नेता, बाबू, बिल्डर, सत्ता के दलाल उनके इर्द-गिर्द छाए हुए हैं. यह हिंदुस्तान का सबसे शांत और सुकूनदेह नेटवर्क है. सबसे अमीर है और सबसे ज्यादा भ्रष्ट भी. नहीं, ये बात मैं नहीं कह रहा हूं. प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार ने यह बात कही. कॉमनवेल्थ खेलों से जुड़ा अनैतिकता और लालच का हर कांड यही बता रहा है.

आप इसे जो कहना चाहें कहें- चोर-चोर मौसेरे भाई वाला पूंजीवाद, सरकारी खजाने की लूट या सीधे-सादे शब्दों में भ्रष्टाचार. लेकिन जो सरकार में बैठे हैं, वे इसे विकास कहते हैं.


600 करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट में ये लोग 36,000 करोड़ रुपए निगल गए और अभी तक निगलते जा रहे हैं. इस लूट का परिमाण और इसका आकार इतना बड़ा था कि पूरी दुनिया के सामने भारत ने अपनी प्रतिष्ठा खो दी. रूस का विनाशकारी तत्व चोर-चोर मौसेरे भाई वाला पूंजीवाद यहां भी आ पहुंचा है. इसने हिंदुस्तान में सच्चे अर्थो में और बड़ी मजबूती से अपनी जड़ें जमा ली हैं. बिना कहे चुपके-चुपके निजीकरण हो रहा है. सिर्फ मुंबई के बिल्डरों को पता है कि माल को किस तरह बांटना है.

किससे लेकर किसको देना है, किस चीज के बदले में देना है. वे अपना मुंह नहीं खोल रहे हैं क्योंकि माल पाने के लिए वे खुद कतार में लगे हुए हैं और वे भलीभांति जानते हैं कि अगर कोई इसके खिलाफ गुस्सा प्रकट करेगा तो यह व्यवस्था किस तरह उससे प्रतिशोध ले सकती है. हर कोई जानता है कि जो भी कीमत चुकाने को तैयार हो, मुंबई की जमीन का एक-एक कोना उसके हाथों बिकने को तैयार है. पार्क, भिखारियों के घर, बूढ़े लोगों के आशियाने, वक्फ की संपत्ति, सारी झुग्गी-झोपड़ियां, समंदर के आसपास की वो जमीनें जहां नमक बनता है, समंदर किनारे बसे शहरों में उगाई जाने वाली मैंग्रूव्स झाड़ी, पुरानी विरासत वाली संपत्ति, पहाड़, जंगल, समुद्र तट की जमीनें सबकुछ बिकने के लिए तैयार है. अब कुछ भी पवित्र नहीं है.

सीआरजेड यानी कोस्टल रेगुलेशन जोन का भी कोई अर्थ नहीं है. सबकुछ हथियाने, कब्जा करने के लिए तैयार है. इतनी बड़ी संख्या में घर बनाए जा रहे हैं, जितने खरीदने वाले लोग भी नहीं हैं. इतने ऑफिस बन रहे हैं, जितनी शहर को कभी जरूरत ही नहीं पड़ेगी. एक के बाद एक बड़ी संख्या में मॉल उग रहे हैं, जहां बिक्री कम-से-कम होती जा रही है. फिर भी कीमतें कम नहीं हो रहीं क्योंकि अगर ऐसा हुआ तो मुनाफाखोरों को नुकसान होगा और आम आदमी को फायदा. और आखिर कौन चाहता है कि आम आदमी को फायदा पहुंचे?

निश्चित ही सरकार तो ऐसा बिल्कुल नहीं चाहती. एक समय ऐसा था, जब 64 करोड़ के बोफोर्स घोटाले के कारण 400 सांसदों के साथ सरकार गिर गई थी. आज हजारों करोड़ रुपयों के घोटाले हो रहे हैं, फिर भी किसी को कोई डर नहीं है क्योंकि विपक्ष भी मुनाफे के इस धंधे में दीवार नहीं बनना चाहता. हर कोई लूट में हिस्सेदार है और जब कोई पत्रकार या आरटीआई कार्यकर्ता इसके खिलाफ खड़ा होता है तो उसका मुंह बंद करने के लिए सिर्फ भाड़े के हत्यारों या झूठे मुकदमे की जरूरत होती है.

उसका मुंह बंद हो जाएगा. आप इसे जो कहना चाहें कहें- चोर-चोर मौसेरे भाई वाला पूंजीवाद, सरकारी खजाने की लूट या सीधे-सादे शब्दों में भ्रष्टाचार. लेकिन जो सरकार में बैठे हैं, वे इसे विकास कहते हैं. लेकिन यह कैसा विकास है, जिसमें मैं देख रहा हूं कि और-और लोग बेघर होते जा रहे हैं, और-और भिखारी बढ़ते जा रहे हैं, और-और बीमार लोग हैं, जो बिना इलाज के मर रहे हैं क्योंकि इलाज के लिए उनके पास पैसे नहीं हैं. और-और गरीब लोग और-और दरिद्रता और अभाव की हालत में जी रहे हैं? यह कैसा विकास है कि मैं और-और आत्महत्या कर रहे किसानों के बारे में पढ़ता हूं, और-और विद्यार्थी आत्महत्या कर रहे हैं क्योंकि वे नहीं जानते कि आखिर उनका भविष्य क्या है.

और-और लोग अपनी नौकरियां खोते जा रहे हैं, वे बेरोजगार हो रहे हैं. क्या हम हिंदुस्तान को और ज्यादा कुंठाओं, अपराधों और हिंसा के लिए तैयार कर रहे हैं? अगर ऐसा हुआ तो फिर हमारे इतने सारे अरबपति कहां जाएंगे?

 

21.08.2010, 00.25 (GMT+05:30) पर प्रकाशित

सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

sriom gupta (sriomgupta@ymail.com) mirzapur up

 
 जब साधारण लोगों में पैसा व हक समान रुप से बंटता है तो पूरे समाज का विकास होता है. लेकिन जब सभी साधारण लोगों का पैसा कुछ लोगों के पास ही केवल रह जाये तो केवल अरबपति ही पैदा होंगे, दूसरी तरफ केवल गरीब. 
   
 

praveer jai singh (praveer_rgh07@rediffmail.com) raigarh c.g.

 
 बिल्कुल यही बात है. फर्जी विकास का मुखौटा आखिर कब तक हमें छलता रहेगा. 
   
 

Sainny Ashesh (sainny.ashesh@gmail.com) Western Himalayas

 
 आज सच्चाई हैरान-परेशान है. आज बहुत थोड़े में जीने को तैयार साधारण मनुष्य का जीना हराम होने लगा है. मैत्रेय मिस्टिक हिमालय ऐसे बहुत थोड़े से लोगों को आमंत्रित करता है, जो नौकरी, परिवार, सम्मान, पुरस्कार जैसी चीज़ों से मुक्त हों और एक खुफिया स्वैछिक, विचारशील, कर्मठ और क्रांतिकारी लोगों के साथ आना पसंद करें. कहीं भी आत्म-निर्भर होकर जी सकने वाले लोग ही संपर्क करें. हम एक बुनियादी जीवन प्रणाली के लिए काम कर रहे हैं. 
   

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in