पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > प्रीतीश नंदी Print | Send to Friend | Share This 

सलमान होने का मतलब

कला

सलमान होने का मतलब

प्रीतीश नंदी

पिछले अरसे बाद ऐसा हुआ है कि किसी फिल्म के प्रोमो ने मुझमें इतनी दिलचस्पी जगाई है कि मैं उसका पहले दिन का पहला शो देखने के लिए बेताब हूं. मुझे इस बात का अनुमान नहीं है कि फिल्म अच्छी होगी या बुरी. संभावना तो यही है कि फिल्म चलताऊ ही होगी. हाल ही में इस तरह की दो फिल्में आई थीं और वे दोनों भी ऐसी ही थीं. यह अलग बात है कि उन फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर खूब पैसे बटोरे.

सलमान खान


उनमें से एक आमिर खान की फिल्म थी, जिसके बॉक्स ऑफिस प्रदर्शन के बाद आमिर ने मार्केटिंग के महारथी का रुतबा हासिल कर लिया. इसकी एक वजह यह भी रही कि आमिर ने शाहरुख खान की सल्तनत में सेंध लगा दी थी. शाहरुख खान ‘रब ने बना दी जोड़ी’ जैसी फिल्म में अपने जाने-पहचाने रंग-ढंग के साथ मौजूद थे, लेकिन इस फिल्म के प्रदर्शन के महज दो हफ्तों बाद रिलीज हुई आमिर की फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर तहलका मचा दिया. देखते ही देखते सभी का ध्यान सुरिंदर साहनी से हटकर संजय सिंघानिया पर केंद्रित हो गया. मेरी नजर में दोनों ही फिल्में सामान्य थीं, लेकिन आमिर की फिल्म बहुत बड़ी हिट हो गई. साथ ही इसने बॉलीवुड को कामयाबी का एक नया मंत्र भी दे दिया- खूनखराबे से भरा ‘तमिल तड़का’.

इसकी सफलता के बाद इसी शैली की एक और फिल्म आई, लेकिन वह तमिल के बजाय तेलुगू मूल की थी- वांटेड. आप इससे बुरी किसी दूसरी फिल्म की कल्पना नहीं कर सकते. कमजोर कहानी, ढीली बुनावट, बिना किसी कुशलता के एक साथ नत्थी कर दिए गए अलग-अलग बिखरे हुए हिस्से. इसके बावजूद अगर इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर कामयाबी के झंडे गाड़ दिए तो उसकी वजह थे सलमान खान. सलमान अपने चिर-परिचित अंदाज में परदे पर आए थे और उनका यही जादू काम कर गया. स्क्रीन पर सलमान का होना ही काफी होता है.

अगर आप मेरी तरह फिल्म को उसके प्रीमियर या टीवी पर नहीं देखते हैं. अगर आप फिल्म को मल्टीप्लेक्स के बजाय पुराने ढर्रे वाले सिंगल स्क्रीन टॉकीज में देखते हैं, तो आप समझ सकते हैं कि सलमान का जादू क्यों चलता है. अकड़ से भरी उनकी चाल पर सीटियां बजती हैं. पुराने ढब के इन टॉकीजों में सलमान की हर अदा पर तालियां पड़ती हैं. उनके संवादों को दर्शक दोहराते हैं. कई ऐसे भी होते हैं, जो इससे पहले भी कई बार वह फिल्म देख चुके होते हैं. वे भी सलमान के साथ-साथ डायलॉग बोलकर सुनाते हैं.

सलमान अकेले ऐसे सितारे हैं, जिनके प्रशंसक उनसे अभिनय की उम्मीद नहीं करते. वे बस इतना ही चाहते हैं कि सलमान ठसक के साथ अकड़कर चलें, गाहे-बगाहे एकाध करारे डायलॉग छोड़ते रहें और जरूरत पड़ने पर अपने से भी कद्दावर गुंडों की ठुकाई कर दें. हां, वे एक क्षण के लिए अपनी तालियां सबसे ज्यादा सहेजकर रखते हैं, वह पल होता है जब सलमान अपनी शर्ट उतारते हैं. फिर चाहे सलमान को यह काम किसी की पिटाई करने के लिए करना पड़े या कोई चालू किस्म का गाना गाने के लिए.

आमिर इससे ठीक उलट हैं. वे कभी नहीं चाहते कि उनसे कोई गलती हो. उनके लिए हर रोल जिंदगी और मौत का सवाल होता है. उनकी फिल्में भी सलमान की फिल्मों के ठीक उलट होती हैं. वे इतनी एहतियात के साथ बनाई गई होती हैं कि प्रत्येक दृश्य से फिल्म की भावना और अहसास नजर आते हैं. फिल्म के दृश्यों में आमिर का व्यावहारिक कौशल नजर आ ही जाता है, लेकिन उन्हें इसलिए नजरअंदाज कर दिया जाता है क्योंकि वे आमिर हैं और कुछ भी गलत नहीं कर सकते. अब तो आमिर के प्रोड्यूसरों ने भी खुलकर शाहरुख खान के साथ नंबर गेम की जंग छेड़ दी है.

अखबारों में पूरे-पूरे पन्नों के विज्ञापन छपवाए जाते हैं, जिनमें आमिर की फिल्मों के बॉक्स ऑफिस प्रदर्शन के आंकड़े होते हैं. यह सिलसिला तब तक जारी रहता है, जब तक फिल्मी पंडित इस जोड़-गणित से तौबा नहीं कर लेते. अक्षय कुमार के निर्माताओं ने भी कुछ समय के लिए नंबर गेम की इस होड़ में शिरकत की, पर पिछली कुछ फिल्मों के पिटने के बाद वे अब खामोश हो गए हैं. लेकिन अक्षय का करिश्मा अब भी बरकरार है. अक्षय जानते हैं कि उनके पास हंसी-ठिठोली का ऐसा माद्दा है कि यदि पटकथा में थोड़ी-बहुत झोल भी हो तो वे उसे छुपा लेंगे. शायद इसी भरोसे से अक्षय आंख मूंदकर कोई भी फिल्म साइन कर लेते हैं.

क्या मैं खुद कभी इस तरह की कोई फिल्म बनाऊंगा? शायद नहीं. क्या मैं इस तरह की कोई फिल्म देखने का सुझाव दूंगा? कतई नहीं.


यह दिलचस्प है कि आज सलमान को छोड़ बाकी सारे फिल्मी अभिनेता ‘स्टार’ नहीं लगते. वे अब स्टार से ज्यादा बिजनेसमैन दिखने लगे हैं. शाहरुख तो एक बिजनेस पत्रिका के कवर पर भी अवतरित हो चुके हैं. अब वे स्टार के बजाय किसी प्रोडच्यूसर सरीखा व्यवहार करते ज्यादा नजर आते हैं. यही हाल आमिर का भी है. वे यह नहीं समझ पा रहे हैं कि व्यवसायी या प्रोड्यबसर की छवि के साथ एक बड़ा प्रशंसक वर्ग तैयार नहीं किया जा सकता. आम आदमी किसी बनिये की सराहना नहीं कर सकता.

जब मैं छोटा था, तब अधिकतर फिल्मों में खलनायक गांव का महाजन या शहर का सफेदपोश साहूकार ही होता था. अब भारत की तस्वीर बदल गई है और लोगों के लिए पैसा कोई खराब चीज नहीं रह गई है, लेकिन हमारे देश का आम आदमी आज भी किसी अमीर आदमी के बजाय अपने हीरो को ही रुपहले परदे पर देखना पसंद करता है. पूरे दो दशक तक हमारे बॉलीवुड का हीरो एक ऐसा एंग्री यंग मैन रहा, जो सिस्टम से अकेले लड़ता था और अकेले ही गुनहगारों का पर्दाफाश भी कर देता था.

इसीलिए मैं एक बार फिर चुलबुल पांडे के बारे में सोच रहा हूं. मुझे कोई शक नहीं है कि ‘दबंग’ किस तरह की फिल्म होगी. लेकिन मैं ऐसी फिल्मों को पसंद करता हूं, जिनमें कोई सिरफिरा किस्म का हीरो उतनी ही सिरफिरी किस्म की कहानी के साथ हमारे सामने आता है और परदे पर अजीबोगरीब हरकतें करते हुए दर्शकों का दिल जीत लेता है. आज सलमान से बेहतर इस काम को और कोई अंजाम नहीं दे सकता.

क्या मैं खुद कभी इस तरह की कोई फिल्म बनाऊंगा? शायद नहीं. क्या मैं इस तरह की कोई फिल्म देखने का सुझाव दूंगा? कतई नहीं. लेकिन क्या मैं सीटियां बजाते, तालियां पीटते सलमान के दीवाने प्रशंसकों के बीच किसी एकल ठाठिया टॉकीज में यह फिल्म देखने जाऊंगा? जी हां. फिल्म देखने के इस सबसे मजेदार अनुभव के लिए ही मैं पैसे खर्च करता हूं. यह मुझे अपने बचपन के दिनों की याद दिलाता है. यह मुझे उन फिल्मों की याद दिलाता है, जहां हमारी फिल्में निहायत ‘फिल्मी’ किस्म की हुआ करती थीं और हमारे फिल्मी हीरो कुछ भी कर सकते थे.

02.09.2010, 03.40 (GMT+05:30) पर प्रकाशित

सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

tarun delhi

 
 सर, आपने सलमान के बारे में बिलकुल सही लिखा है सलमान के फैन कभी सलमान की एक्टिंग देखने थिएटर नहीं जाते है. वो तो बस सलमान को देखने जाते है.सलमान के फैंस को हित और फ्लॉप से कुछ असर नहीं पड़ता. 
   
 

indu puri (puri.indu4@gmail.com) chittod garh -rajsthan

 
 नंदी साहब, मुझे नही मालूम किसी फिल्म को अच्छी या बुरी की कसौटी पर कसने के आपके मापदंड क्या है? मुझे तो बस इतना मालूम है कि जिस उद्देश्य से फिल्म या उसके दृश्य विशेष फिल्माए गए हैं, उसे देख कर 'उस' रस की उत्पत्ति दर्शक में होती है और इतनी की ना केवल मानसिक,वाचिक,भावनात्मक बल्कि दैहिक प्रतिक्रिया भी उसी के अनुरूप हो तो मानती हूं कि फिल्म अपना असर छोड़ने में सफल हुई.
सलमान खान 'एक अच्छा इंसान' के रूप में दर्शकों में जाने जाते हैं.उनसे जुड़े विवाद कुछ भी रहे हों, उनका ये 'अच्छा होना' भी सिनेमा हाल में दर्शकों के साथ चिपका रहता है.यही करण है कि उनकी बकवास फिल्मों में भी दर्शक उनके साथ हंसता और रोता है. 'हम दिल दे चुके सनम' का वो दयालु,मस्त,शरारती तड़प पैदा करने वाला प्रेमी अपने उस रूप में सलमान की हर फिल्म में अपने प्रेमी रूप में पात्र से चिपका रहता है चमड़ी की तरह. यही कारण है कि दर्शक सलमान को प्यार करते हैं. अभिनेत्रियों द्वारा यूज करने और छले जाने के बाद फिर उस रास्ते पर इस हीरो के चलने पर लोग उसके इंसानियत,प्यार भरे रूप को देखता है कि -'कितना अच्छा सीधा,नेक इंसान है ये, फिर छले जा रहा है. ये सब बातें दर्शक के साथ जुड गई हैं, जो सलमान को प्यार करने को बाध्य करती है. हा हा हा... है ना एकदम अलग तर्क? आप बुद्धिजीवियों के बीच सिर्फ और सिर्फ दिल और संवेदना की बात!
चित्रलेखा देखी है? लम्हे? सदमा? आप समीक्षकों की दृष्टि में 'फ्लाप', मगर हम दर्शकों की दृष्टि में बेहतरीन फिल्म्स. हम दर्शक दिमाग से नही बस दिल से सोचते हैं.
 
   
 

Sainny Ashesh Western Himalayas

 
 जब प्रीतीश इस अंदाज़ में बोलता है/ तो अपुन का दिल नए अंदाज़ में परिंदा होकर/नए आसमान में उड़ने को बोलता है/ वेल डन, प्रीतीश !/बूढा नहीं होने का !
तुम को अब तक आशिकी का वो ज़माना याद है !
 
   

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in