पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

मधुमेह की महामारी कीटनाशक के कारण?

सूचकांक से कहीं ज्यादा बड़ी है भुखमरी

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

सूचकांक से कहीं ज्यादा बड़ी है भुखमरी

अंतिम सांसे लेता वामपंथ

कॉर्पोरेट और किसान में फर्क

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >अन्ना हजारे Print | Share This  

मैं गांधी नहीं हूं

मुद्दा

 

मैं गांधी नहीं हूं

अन्ना हजारे


एक जवान हरविंदर सिंह ने शरद पवार, कृषि मंत्री, भारत सरकार के मुंह पर थप्पड़ मारा और लोगों में हल्ला गुल्ला मच गया. किसी ने मुझ से पूछा शरद पवार के मुंह पर एक जवान ने एक थप्पड़ मारा, मैंने कहा एक ही थप्पड़ मारा? और प्रत्यक्ष थप्पड़ मारने वाले से “एक ही थप्पड़ मारा” कहने वाले को कई लोगों ने अधिक अपराधी माना.

शरद पवार


मैंने कई बार ये कहा है कि अन्ना हजारे कि तुलना महात्मा गाँधी जी से करना ठीक नहीं है. गाँधी जी के पास बैठने की भी मेरी पात्रता नहीं है. लेकिन उनके विचारों का थोड़ा सा प्रभाव मेरे जीवन में पड़ने के कारण देश की उन्नति के लिए ग्राम विकास और अहिंसात्मक संघर्ष जैसा थोडा-सा कार्य मैं कर पाया.

मैंने ये भी कहा था कि मैं महात्मा गाँधी जी के आदर्श को मानता हूँ लेकिन कभी-कभी छत्रपति शिवाजी महाराज का भी आदर्श सामने रखता हूँ. मैं किसी पर तलवार से वार नहीं करना चाहता, किसी पर शस्त्र नहीं चलाना चाहिए, किसी से हाथापाई नहीं करना चाहिए. लेकिन किसी को कठोर शब्द प्रयोग करना इस बात को भी महात्मा गाँधी जी ने हिंसा कहा है.

समाज और देश कि भलाई के लिए कठोर शब्द की हिंसा मैं बार-बार कई सालों से करता आया हूँ. एक ही थप्पड़ मारा? ये मेरी हिंसा हो गई थी. लेकिन समाज की भलाई के लिए ऐसी हिंसा करने को मैं दोष नहीं मानता. राजनीति में कई लोगों को थप्पड़ मारने का बहुत बुरा लग गया था. कईयों को गुस्सा भी आ गया था. लेकिन उस जवान ने थप्पड़ क्यों मारा था? इस बात को भी सोचना जरुरी था.

आज दिन ब दिन भ्रष्टाचार बढता जा रहा है. इस भ्रष्टाचार से सामान्य लोगों का जीना मुश्किल हो गया है. बढते भ्रष्टाचार के कारण मंहगाई बढती जा रही है. उस कारण परिवारिक लोगों को परिवार चलाना मुश्किल हो रहा है. जब सहनशीलता की मर्यादा का अंत होता है तो कुछ लोग कानून को हाथ में लेकर ऐसे कृत्य करते है. इस जवान ने जो किया है, वो गलत किया है. इस पर किसी को भी दो राय नहीं है. मैंने भी निषेध किया है. लेकिन थप्पड़ क्यों मारा, इस बात को सोचने की जरुरत है. एक थप्पड़ लगने से राजनीति में लोगों को गुस्सा आ गया. लेकिन जब सरकार किसान पर उनका दोष न होते हुए वह जब अपना हक मांगते हैं, तब सरकार लाठी चार्ज करती है. कई किसान घायल होते हैं. कई बार सरकार गोलियां चलाती है. उसमें कई किसानों की मृत्यु भी हो जाती है. लेकिन कृषि प्रधान भारत देश में उस पर किसी को गुस्सा नहीं आता. यह दुर्भाग्य की बात है. महाराष्ट्र में किसान आत्महत्याएं करते हैं, उस पर किसी राजनेता को गुस्सा नहीं आता? यह दुर्भाग्य की बात है.

1989 में महाराष्ट्र में बिजली संकट का निर्माण हुआ था. किसानों के इलेक्ट्रिक पम्प के लिए वोल्टेज नहीं मिल रही थी. किसानों की फसल जल रही थी, कम पावर (वोल्टेज) के कारण किसानों के इलेक्ट्रिक पम्प जल रहे थे. डी.पी. जल रही थी, बिजली में सुधार लाने के लिए मैंने तीन चार साल प्रयास किया. सरकार बिजली सुधार के लिए आश्वासन देती रही लेकिन कोई फर्क नहीं आया. इसलिए मैंने अनशन-आन्दोलन शुरू किया था. आठ दिन के बाद मुझे सरकार जबरन सरकारी हॉस्पिटल में ले गयी और मुझे हॉस्पिटल में भर्ती कर दिया.

उस कारण सरकार के प्रति किसानों के दिल में गुस्सा निर्माण हो गया. उन्होंने अहमदनगर जिले में वाडेगव्हन गाँव के पास रास्ता रोको आन्दोलन किया और सरकार ने किसानों के उस आन्दोलन पर गोली चलाई. चार किसान मृत्यु मुखी पड़ गए, कई लोग घायल हो गए. उस समय शरद पवार राज्य के मुख्यमंत्री थे. लेकिन किसी भी राजनेता को उस पर गुस्सा नहीं आया था. उस आन्दोलन को आज 22 साल बीत गए हैं. लेकिन बिजली का संकट आज भी कायम है, समाप्त नहीं हुआ.

केंद्र में शरद पवार कृषि मंत्री और राज्य में बिजली मंत्री भी उन्हीं का है. फिर भी 22 साल हो गए. आज किसानों के इलेक्ट्रिक पम्प को वोल्टेज पूरे नहीं मिलने के कारण जलते हैं, फसल जलती है, डी.पी. जलती है. उस पर गुस्सा किसी राजनेता को नहीं आता है. यह दुर्भाग्य की बात है. पुणे के पास मावल में किसानों ने आन्दोलन किया. उस आन्दोलन पर गोली चलाई गई, तीन किसानों की म्रत्यु हो गई. राजनेता को गुस्सा नहीं आया.
आगे पढ़ें

Pages:
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

raj singh [rjkumar832@gmail.com] hyderabad - 2011-12-12 13:55:38

 
  अन्ना ने सही तो कहा है. इसमें गलत क्या है ? 
   
 

prabhakar [rakesh1936@gmail.com] agra - 2011-12-09 18:34:32

 
  आपको मालूम है कि अन्ना के ख़ुद के मुताबिक़ वो सन \'71 के युद्ध में बच गये थे जबकि उनके बाक़ी सब साथी मारे गये थे? सोचिये क्यों? क्योंकि अन्ना उस वक़्त भी गान्धीवादी थे! पाकिस्तानी सैनिकों ने सोचा होगा, छोडो यार! मरे हुए को क्या मारना. 
   
 

anoj [] indore - 2011-12-07 22:04:57

 
  sharad pawar is criminal and bigger than terrorist..as terrorist make us cry for few days but this person makes us cry everyday since last 6-7 years.  
   
 

vichar2000 [vichar2000@gmail.com] bhopal - 2011-12-07 03:02:32

 
  अन्ना जी, शायद आप कलयुग में धर्म युद्ध का सपना देख रहे है. हां यह युद्ध ही तो है जो सत्ता और कुर्सी के लिये हर दिन हमारे नेता लड़ते रहते हैं. बस इस युद्ध में हथियार अलग हो गये हैं. धर्म युद्ध में राजा युद्ध में हारे राज्यों की संपत्ति लूट कर युद्ध और अय्याशी के लिये धन जमा करता था. आज हमारे राजनेता इसे भर्ष्टाचार जैसे तरीकों से जमा करते हैं.
अन्ना जी, अब आप ही बताइये कि 2014 में होने वाले लोकसभा चुनाव मे राजनीतिक पार्टियां 25000 करोड़ से भी ज्यादा धन खर्च करेंगी ...अब आप ही बताओ ये धन वो कहां से लायें..??? इस देश में जन आंदोलन चलाना एक बात है और लोकतंत्र में पूर्ण बहुमत हासिल कर सरकार बनाना दूसरी बात है..हम आभारी हैं कि आपके कारण यह देश सोचने पर मजबूर है...उम्मीद है, आपका यह आंदोलन लाखों-करोड़ों अन्ना पैदा करेगा और ऐसी व्यवस्था लाने में मदद करेगा जो इस देश के आम आदमी को मजबूत बनाये.
 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in