पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >प्रीतीश नंदी Print | Share This  

आमिर खान क्या कर रहे हैं?

बात पते की

 

आमिर खान क्या कर रहे हैं?

प्रीतीश नंदी


पिछले कुछ हफ्तों से हम बॉलीवुड के सुपरस्टार आमिर खान को टेलीविजन पर प्रसारित अपने शो ‘सत्यमेव जयते’ में अनेक अहम सामाजिक मसलों को उठाते हुए देख रहे हैं. वे जिस अंदाज में इस शो को पेश करते हैं, वह मुझे अच्छा लगता है. हालांकि मैं जानता हूं कि कई लोगों को यह शो आकर्षित नहीं भी करता. संभवत: मैं इसकी वजह भी जानता हूं. इसकी कुछ खामियां तो बिलकुल स्पष्ट हैं.

आमिर खान

 
शुरुआत से देखें तो उनका यह शो हमें ऐसा, और कुछ हद तक झूठा भी; आभास देता है कि यह हमारे समाज में व्याप्त बुराइयों को मिटाना चाहता है. लेकिन जब आप इसे लगातार देखते हैं, तो आपको एहसास होता है कि आमिर कोई समाज सुधारक नहीं हैं. वे महज परिदृश्य में दिलचस्पी रखने वाले शख्स हैं, हालांकि हम पत्रकारों की तरह नहीं. पत्रकार न सिर्फ सामाजिक बुराइयों की ओर इशारा करते हैं, वरन वे उनके खिलाफ अभियान भी चलाते हैं. जिस चीज में उन्हें भरोसा होता है, वहां वे अपनी गर्दन फंसाए रहते हैं. आमिर ऐसा कुछ नहीं करते.

हां यह जरूर है कि उन्होंने एक पत्रकार की टोन और हाव-भाव को अपना लिया है. वह आपके समक्ष समस्या पेश करते हैं और उसके बाद पीछे हट जाते हैं, इस उम्मीद के साथ कि राजनीतिक व्यवस्था इसे दुरुस्त करेगी. जबकि हम सब जानते हैं कि यह कभी नहीं होने वाला. इस लिहाज से यह एक भावुकताप्रधान शो है, जिसे देखकर आपके आंसू निकल सकते हैं. लेकिन इससे आपके आसपास की दुनिया में बदलाव नहीं आएगा. इसकी ऐसी मंशा भी नजर नहीं आती.

इसी बात से और भी हताशा होती है. जब कोई आपको यह बताए कि समाज में क्या गलत हो रहा है तो आप उस शख्स से उम्मीद करते हैं कि वह इसे दुरुस्त करेगा. जैसा कि कोई लीडर कर सकता है, यदि उसकी वास्तव में मंशा है तो. या हमारे राजनीतिक तंत्र पर इतना दबाव डालेगा कि वह कुछ करने के लिए मजबूर हो जाए, जैसा कि कोई पत्रकार करने की कोशिश भी करता है, हर बार नहीं मगर ज्यादा सफलता के साथ. लेकिन ‘सत्यमेव जयते’ ऐसा कुछ करता नजर नहीं आता. शो के दौरान आमिर को कई बार हम आंसू बहाते हुए देखते हैं.

उनके साथ हमारी भी आंखें डबडबा जाती हैं. लेकिन अगले हफ्ते हम एक नई समस्या, एक नए भावुकतापूर्ण शो, एक और भाव-विरेचन की ओर बढ़ जाते हैं. कोई नहीं जानता कि इन तमाम दुखद गाथाओं के साथ क्या किया जाए. यदि ये किसी अखबार में प्रकाशित होतीं तो लोग संभवत: जनहित याचिकाएं दायर करते या सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगते हुए यह देखते कि वे किस तरह मामले को आगे तक ले जा सकते हैं, जिससे सरकार कुछ करने के लिए मजबूर हो जाए. हम सब जानते हैं कि कोई भी सरकार स्वेच्छा से काम नहीं करती. चूंकि आमिर यहां पर मुख्य वार्ताकार की भूमिका में हैं, लिहाजा लोग उनसे ऐसा करने की उम्मीद करते हैं.

फिल्म जगत के सितारे भले ही रुपहले परदे पर लार्जर दैन लाइफ किरदार में दिखाई दें, लेकिन जब राजनीतिक तंत्र से जूझने की बात आती है तो उन्हें इस बारे मे कुछ भी पता नहीं होता. कई बार तो मुझे अंदेशा होता है कि वे ऐसा करना भी नहीं चाहते. अपने रील लाइफ किरदारों से इतर रियल लाइफ में वे राजनेताओं को दुश्मनों की तरह नहीं देखते. वे उन्हें अपने साथी समूह के तौर पर देखते हैं- ऐसे लोग जिनके पास पावर व पैसा है.

दूसरी ओर पत्रकार अक्सर लीक से हटकर स्टोरीज की तलाश में अपना जीवन जोखिम में डालते हैं. मैं इस बात को इसलिए जानता हूं क्योंकि दूसरे कई पत्रकारों की तरह मैंने भी अनगिनत अदालती मुकदमों, उत्पीड़न, डांट-डपट और यहां तक कि जान से मारने की धमकियों का सामना किया है. लेकिन हम इसे अपने हिसाब से लेते हैं, क्योंकि हम इसे अपने जॉब की तरह देखते हैं. लेकिन कोई फिल्मी सितारा यह नहीं समझेगा कि सच्चई को उजागर करना उसका जॉब है. उसका जॉब तो फंतासी रचना है. इसलिए भले ही वह कभीकभार किसी मुद्दे के पक्ष में आकर खड़ा हो जाए, लेकिन जब चीजें गंभीर होने लगें तो वह सबसे पहले किनारे हो जाएगा. मैं इसके लिए उन्हें दोष भी नहीं देता. आखिर वे यह सब करने के लिए तो घर से नहीं निकले हैं.

यही इस शो की सबसे बड़ी खामी है. आमिर सितारों से संबंधित इस धारणा को तोड़ने की अपनी ओर से पूरी कोशिश करते हैं, लेकिन यह उनके हाथ में नहीं है. उन्हें वापस जाकर फिल्मों में काम करना होगा. आखिरकार ‘सत्यमेव जयते’ उनके लिए एक टीवी शो ही तो है. यह उनकी जिंदगी नहीं है. फिर भी एक पत्रकार की टोन अपनाते हुए वह ऐसा जताते हैं, मानो अपने द्वारा उठाए गए मुद्दों के प्रति सही मायनों में काफी चिंतित हैं. यहीं पर विरोधाभास नजर आता है और यहीं आकर ‘सत्यमेव जयते’ नाकाम होता लगता है.

ऐसा इसलिए है क्योंकि आमिर एक समाधान के माध्यम से मुद्दों को नहीं देख सकते और न ही देखेंगे. वह अच्छे इंसान हैं, लेकिन बदलाव के प्रवर्तक नहीं. वह एक अभिनेता, एक रोल मॉडल होने के अलावा एक पत्रकार की भूमिका के लिए आकर्षक विकल्प हो सकते हैं. लेकिन न तो उनमें बदलाव लाने की मंशा है और न ही इसके प्रति कोई जिद. उनके पास ऐसा करने के लिए समय भी नहीं है. उनके लिए यह महज एक टीवी शो है. यह उनकी जिंदगी नहीं है और न ही जीवन का उद्देश्य.

लेकिन हां, ‘सत्यमेव जयते’ से आखिरकार बदलाव आएगा. दरअसल हम जिस किसी भी चीज को पसंद करते हैं, वह अपना प्रभाव जरूर छोड़ती है. तत्क्षण नहीं तो बाद में ही सही, लेकिन ये प्रभाव नजर जरूर आते हैं. यही कारण है कि इस शो का होना इतनी अहमियत रखता है. यह इसलिए अहम है कि आमिर ने इसे एक उद्देश्य की तरह देखा, भले तेरह हफ्तों की अवधि के लिए ही सही. अब आम जनजीवन को बीड़ा उठाना होगा. इतिहास को इसे आत्मसात करना होगा. आपको व हमें इसे आगे ले जाना होगा. आमिर खान का काम तो खैर 13 एपिसोड के बाद खत्म हो जाएगा.

19.07.2012, 19.40 (GMT+05:30) पर प्रकाशित

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

surendra bansal [taalab42421@gmail.com] chandigarh - 2012-07-26 05:00:48

 
  प्रीतीश नंदी इतने बरसों से लिख लिख कर क्या कर रहे हैं. फालतू टिप्पणियों का कोई मतलब नहीं होता. कई राज्यों में आमिर के उठाए सवालों से काम शुरु हुआ है, उनको दो बार केंद्र सरकार ने बुलाया है, प्रीतीश जी को कभी किसी ने बुलाया? 
   
 

Sunder Lohia [lohiasunder2@gmail.com] Mandi Himachal Pradesh - 2012-07-20 02:54:29

 
  सत्यमेव जयते में जिन सामाजिक समस्याओं को उठाया गया है उनका हल वैसी ही समस्याओं से जूझ कर सफल होने वाले लोगों को भी पेश कर के वो बताते हैं कि हल किसी कानून या नेता के बस की बात नहीं है, वह तो जनता की अपनी लड़ाई से ही निकल कर आएगा. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in