पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

सरकार ने रची मेरी हत्या की साजिश- रामदेव

सरकार ने रची मेरी हत्या की साजिश- रामदेव

 

नई दिल्ली. 5 जून 2011

काला धन लाने समेत विभिन्न मुद्दों को लेकर दिल्ली के रामलीला मैदान में अनशन पर बैठे बाबा रामदेव को पुलिस ने शनिवार देर रात अफ़रा-तफ़री और आंसू गैस के गोले चलाने के बीच नाटकीय ढंग से हटा दिया. इस घटना के बाद बाबा देहरादून के रास्ते हरिद्वार पहुंचे, जहां उन्होंने पुलिस पर उनकी हत्या की साजिश रचने का आरोप लगाया है. दूसरी ओर पुलिस ने बाबा रामदेव के 15 दिनों तक दिल्ली प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है. इसके अलावा पुलिस ने रामदेव समर्थकों पर भी कार्रवाई की है.

हरिद्वार में अपने मुख्यालय पतंजलि आश्रम में उन्होंने कहा कि शनिवार और रविवार की रात उनके जीवन की काली रात थी. रामलीला मैदान पर उनकी हत्या की साजिश रची गई थी और यहां तक कि पुलिस ने एक बार उनके गले में फंदा भी डाल दिया था. उन्होंने यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी पर सीधा निशाना साधा और कहा कि पूरी कार्रवाई उन्हीं के निर्देश पर हुई है. बाबा ने कहा कि यदि उनकी जान को कुछ होता है तो इसके लिए पूरी तरह से कांग्रेस और सोनिया गांधी जिम्मेदार होंगे.

बाबा रामदेव ने सरकार के मंत्रियों के साथ हुई बातचीत का ब्योरा देते हुए कहा कि सरकार की मंशा पहले दिन से ही साफ नहीं थी और षडयंत्र रचे रहे थे. उन्होंने कहा कि सरकार ने उन्हें आश्वासन दिया कि आप जो चाहते हैं वह पूरा किया जाएगा. सरकार काले धन को राष्ट्रीय संपत्ति घोषित करने और उसके लिए बिल लाने को भी तैयार थी. सरकार काले धन का पता लगाने के लिए उच्च स्तरीय जांच कमेटी बनाने पर भी राजी थी, लेकिन वे लगातार अनशन समाप्त करने, दबाव डाल रहे थे. लेकिन हमारी मांग लिखित में आश्वासन दिए जाने की थी.

बाबा रामदेव ने बताया कि महिलाओं के कपड़े पहन कर उन्होंने पुलिस से बचने की कोशिश की. उन्होंने कहा कि सरकार की पूरी योजना थी कि या तो रामदेव को इस दमन के दौरान मरवा दिया जाए या फिर उसे गायब करवा दिया जाए. उन्होंने महिला के वस्त्र पहनकर वहां से निकलने की कोशिश की. वे दो घंटे तक एक दीवार के साथ चिपक कर खड़े रहे. जब आंसू गैस के गोलों का प्रभाव थोड़ा कम हुआ तब वे वहां से निकले.

उन्होंने दोहराया कि सरकार एक रिमोट से संचालित हो रही है. उन्होंने कहा कि पहले यह लगता था कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी इस देश में पैदा नहीं हुईं फिर भी देश की बहू हैं. लेकिन कल रात उनके आदेश पर जो हुआ उससे यह साफ हो गया कि सोनिया गांधी को देश के नागरिकों से प्यार नहीं है. राष्ट्रभक्त संन्यासियों को हत्यारा और आतंकी कहा जा रहा है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

नरेंद्र तोमर [nakutom@yahoo.com] गाजियाबाद,उप्र - 2011-06-06 04:50:38

 
  दिल्‍ली में बाबा के सत्‍याग्रह का पटाक्षेप इस रूप में होगा, इसकी आशा शायद किसी को नहीं थी। कल रात सरकार ने जो पुलिस कार्यवाई की, उसके अपने तर्क कुतर्क और कारण हो सकते हैं, पर गुप्‍त एजेंडा के साथ चलाए जा रहे ऐसे सत्‍याग्रह पर, हम भी यह सोचते हैं कि, अगर पुलिस कार्यवाई नहीं होती तो बेहतर होता। पर इससे भी महत्‍वपूर्ण सवाल तो यह पैदा होता है कि बाबा को महिला के कपडे पहन कर गिरफ्तारी से बचने की कोशिश करने की जरूरत क्‍या थी? हमारे देश में सत्‍यागहों और आंदोलनों की आधुनिक परंपरा कम से कम 100 साल पुरानी है, और महात्‍मा गांधी सहित हमारे नेताओं ने गिरफ्तारी से इस तरह से भागने और बचने की कोशिश नही की है। क्‍या यह भी सरकार के साथ हुए किसी गुप्‍त समझौते का अंग तो नहीं थी. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in