पहला पन्ना >मुद्दा >पाकिस्तान Print | Share This  

पाक ने कहा- नहीं कर सकते भारत से लंबा युद्ध

पाक ने कहा- नहीं कर सकते भारत से लंबा युद्ध

नई दिल्ली. 28 जून 2011


पाकिस्तान के रक्षा मंत्री चौधरी अहमद मुख़्तार ने कहा है कि भारत ने पिछले कुछ सालों के दौरान अपनी सेना को जिस तरह विकसित किया है उसे देखते हुए पाकिस्तान के लिए उससे लंबी लड़ाई लड़ना मुश्किल है. बीबीसी से एक विशेष बातचीत में पाकिस्तानी रक्षा मंत्री का कहना था कि “पहले भारत और पाकिस्तान 22 दिनों तक लगातार लड़ सकते थे. अब भारत ने काफ़ी हथियार जुटाए हैं तो शायद वो 45 दिनों तक लड़ सकते है. पर हम ऐसा नहीं कर सकेंगे.”

बीबीसी के अनुसार पाकिस्तान के रक्षा मंत्री चौधरी अहमद मुख़्तार ने कहा कि भारतीय अर्थव्यस्था पाकिस्तान से छह-सात गुना बड़ी है और उनकी अर्थव्यवस्था भी तेज़ी से बढ़ी है-"हम अगर दोनों फ़ौजों की तुलना करें या हथियारों की तुलना करें तो हम शायद उतने सक्षम नहीं हैं."

बीबीसी द्वारा की गई बातचीत में जब उनसे पूछा गया कि पाकिस्तान जब भारत का मुक़ाबला नहीं कर सकता तो फिर दोनों देशों के बीच स्थिति बेहतर क्यों नहीं होती है तो उनका कहना था, "भारत के साथ बातचीत शुरु हुई है और दोनों देशों के लोग अब आसानी से एक दूसरे के देश जा रहे हैं.”

उन्होंने भारत के साथ बेहतर रिश्तों की बात करते हुये कहा कि किसी ने सोचा भी नहीं था कि कोई पाकिस्तान से वाघा सीमा के रास्तेअमतृसर जाएगा. उनका कहना था, "अब ये हक़ीकत है और इस तरह की गतिविधियाँ हो रही हैं. उन्होंने कहा कि दुर्भाग्यवश दोनों देशों के बेहतर होते संबंधों के बीच कर्गिल और मुंबई जैसी घटनाएँ हो जाती हैं और कुछ ऐसे तत्व हैं जो यह करवाते हैं क्योंकि वो नहीं चाहते कि इस क्षेत्र में शांति हो.

ओसामा बिन लादेन की मौत पर बात करते हुए चौधरी अहमद मुख़्तार ने कहा कि ऐबटाबाद में हुई अमरीकी कार्रवाई में सुरक्षा की कोई चूक नहीं थी. उनका कहना था कि “ऐबटाबाद की घटना में कोई चूक नहीं थी और उन्होंने आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया जिससे उन्हें रोकना काफ़ी मुश्किल हो गया था.”

अफ़ग़ानिस्तान समस्या के हल पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि इसके लिए बातचीत की प्रक्रिया में अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान के तालिबान को शामिल किया जाएगा. उन्होंने कहा, “सरकार को पता है कि तालिबान कहाँ हैं इसलिए उनसे मिलना मुश्किल नहीं है. अफ़ग़ानिस्तान की समस्या के हल केलिए सभी तालिबान से बातचीत होगी.” अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई की ओर से पाकिस्तान पर लगाए गए आरोपों पर उन्होंने कहा कि अफ़ग़ान राष्ट्रपति के बयान में कोई हक़ीकत नहीं है और पिछले हफ़्ते राष्ट्रपति ज़रदारी की उनसे अच्छी बातचीत हुई है.