पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

भाजपा में नहीं हैं अरूण शौरी

भाजपा में नहीं हैं अरूण शौरी

 

नई दिल्ली. 22 जुलाई 2011

पूर्व केन्द्रीय मंत्री और वरिष्ठ पत्रकार अरूण शौरी ने दावा किया है कि उनका भाजपा से लगभग कोई रिश्ता नहीं है. उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी की खराब सेहत के बाद से उन्होंने भाजपा के किसी भी कार्यक्रम में भाग नहीं लिया है.

ज्ञात रहे कि इंडियन एक्सप्रेस के संपादक रहे अरुण शौरी ने 1998-2004 में राजग सरकार में विनिवेश, संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालयों सहित कई अन्य विभागों में कार्यभार संभाला था. पद्मभूषण, रेमन मैग्सेसे, दादाभाई नौरोजी पुरस्कार, फ्रीडम टू पब्लिक अवार्ड, एस्टर पुरस्कार, इंटरनेशनल एडिटर ऑफ द ईयर अवार्ड से सम्मानित शौरी ने कुछ समय पहले भी भाजपा को कटघरे में खड़ा किया था.

एक निजी चैनल के साथ बातचीत में उन्होंने कहा कि वे भाजपा में अठल बिहारी वाजपेयी के कारण आये थे और जब अटल बिहारी वाजपेयी ने अपनी खराब सेहत के कारण खुद को अलग किया तो उन्होंने भी भाजपा से अपने संबंध तोड़ लिये. उन्होंने इस बात से इंकार किया कि इसका भाजपा के हिंदुत्व के एजेंडे से हट जाना कोई कारण है. उन्होंने साफ किया कि उनके कई मित्र अभी भी भाजपा में सक्रिय हैं. लेकिन भाजपा के काम से उनका कोई लेना-देना नहीं है.

अपनी नई किताब की चर्चा करते हुये उन्होंने कहा कि यह किताब राजनीति पर नहीं है. उन्होंने कहा कि कांगेस नेता सोनिया गांधी अक्सर विकलांग लोगों के लिये काम करते दिख जाती हैं. दूसरे लोगों को भी ऐसे कामों के लिये आगे आना चाहिये.