पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

अनशन के बाद अन्ना का ऐलान-लड़ाई जारी रहेगी

अनशन के बाद अन्ना का ऐलान-लड़ाई जारी रहेगी

नई दिल्ली. 28 अगस्त 2011


16 अगस्त से अनशन कर रहे अन्ना़ हजारे ने रविवार को करीब 10 बजे अपना अनशन तोड़ दिया. पांच साल की दलित बच्ची सिमरन और मुस्लिम समुदाय की इकरा ने नारियल पानी और शहद पिला कर अन्ना का अनशन तुड़वाया. अनशन तोड़ने के बाद अन्ना हजारे ने देशवासियों का शुक्रिया अदा किया. उन्होंने रामलीला मैदान के मंच से समर्थकों से कहा कि आपके 13 दिनों के प्रयास का फल मिला. उन्होंने आंदोलन में साथ देने वाले सभी लोगों, मीडिया और डॉक्टरों की टीम का शुक्रिया अदा किया.

रामलीला मैदान में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुये अन्ना हजारे ने कहा, 'मैंने अनशन छोड़ दिया है, लेकिन लड़ाई जारी रहेगी. यह परिवर्तन की लड़ाई है और यह नतीजा मिलने तक चलती रहेगी. इस लड़ाई में अगली बारी राइट टू रिकॉल यानी जनप्रतिनिधियों को बुलाने के हक और राइट टू रिजेक्ट यानी उम्मीदवारों को खारिज करने की होगी.' अन्ना ने कहा कि लड़ाई के लिए तैयार रहना होगा. संभव है कि फिर जनसंसद लगानी पड़े. तो इसके लिए भी तैयार रहना होगा.

अन्ना ने आज के पल को देश के लिए गौरवशाली क्षण करार देते हुए कहा कि देशवासियों ने 13 दिनों तक अहिंसक आंदोलन चला कर दुनिया के सामने मिसाल रखी है. अन्ना ने युवाशक्ति को राष्ट्रशक्ति‍ कहा. उन्होंने कहा, ‘जनसंसद दिल्ली की संसद से बड़ी है और जनसंसद के आगे दिल्ली की संसद झुक गई. ऐसे में भ्रष्टाचार मुक्त भारत के निर्माण की उम्मीद जगी है. हमें गरीब और अमीर की खाई कम करनी है. पर्यावरण की रक्षा, कृषि क्षेत्र, और शिक्षा के क्षेत्र में सुधार की जरूरत है.

उन्होंने कहा, ‘यहां आप सबने टोपी पर लिखा है ‘मैं अन्ना हूं’. अन्ना बनने के लिए कथनी और करनी एक रखनी होगी. शुद्ध आचरण, शुद्ध विचार, निष्कलंक जीवन, त्याग करना और अपमान सहना सीखने की जरूरत है.’

टीम अन्ना के सदस्य अरविंद केजरीवाल ने संसद का शुक्रिया अदा किया. खुद को अन्ना का हनुमान बताने वाले केजरीवाल ने कहा कि देश आज त्यौहार मना रहा है. उन्होंने कहा कि हम संविधान के खिलाफ नहीं हैं, बस इतना चाहते हैं कि जनता के हित में ही कानून बने.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in