पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

फिर से होगा गरीबों का सर्वे

फिर से होगा गरीबों का सर्वे

नई दिल्ली. 3 अक्टूबर 2011


योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह आहलूवालिया ने ऐलान किया है कि सामाजिक-आर्थिक आधार पर देश में फिर से सर्वेक्षण किया जाएगा. इसके तहत ग्रामीण इलाकों में गरीबों की गिनती होगी. आहलूवालिया के मुताबिक इसी सर्वे के आधार पर कल्याणकारी योजनाओं का लाभ दिया जाएगा. उनके साथ उपस्थित केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने कहा है कि यह सर्वे जनवरी, 2012 तक पूरी कर लिया जाएगा. रमेश के मुताबिक जातिगत जनगणना के साथ ही इस सर्वे का काम ग्रामीण विकास मंत्रालय कराएगा.

आहलूवालिया ने कहा कि योजना आयोग पर गरीबों की संख्या कम दिखाने के आरोप लगते हैं, जो बिल्कुल गलत हैं. उन्होंने कहा कि योजना आयोग अपनी राय के आधार पर काम नहीं करता है, बल्कि समितियों की सिफारिशें मानता है. उन्होंने शहरों में 32 रुपये और गांवों में 26 रुपये रोज खर्च करने वाले को गरीबी रेखा से ऊपर माने जाने को जायज ठहराते हुए कहा कि इसे एक व्यक्ति के खर्चे के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए.

ज्ञात रहे कि योजना आयोग ने उच्चतम न्यायालय में हलफनामा दे कर कहा था कि शहरी इलाक़ों में रह रहा कोई भी व्यक्ति जो रोज़ाना 32 रुपए से ज़्यादा ख़र्च करता है वो ग़रीब नहीं है. ग्रामीण क्षेत्रों के लिए रूपए के आंकड़े को 26 पर रखा गया था.

सोमवार को मोंटेक सिंह ने कहा कि जब आप इन आंकड़ों को पूरे परिवार के मासिक खर्च के तौर पर देखेंगे तो यह अधिक हो जाता है. हालांकि, उन्होंने साफ किया कि बावजूद इसके यह बहुत ही कम रकम है. मोंटेक ने कहा, 'वह तेंडुलकर समिति की राय थी. उसी के आधार पर आयोग ने सुप्रीम कोर्ट के सवालों के जवाब देते हुए वह हलफनामा दायर किया था.'

आहलूवालिया ने कहा कि गरीबी रेखा के नीचे या उसके ऊपर मौजूद निम्न मध्य वर्ग पर भी काफी दबाव है. योजना आयोग के उपाध्यक्ष ने साफ किया कि योजना आयोग ने कभी भी यह नहीं कहा कि देश की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ गरीबी रेखा के नीचे के ही लोगों को मिलना चाहिए. उन्होंने कहा कि योजना आयोग की हमेशा कोशिश रही है कि गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) से कहीं ज़्यादा समाज के एक बड़े वर्ग को कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिलना चाहिए.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in