पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

भाजपा का पदाधिकारी रहा है प्रशांत भूषण का हमलावर

भाजपा का पदाधिकारी रहा है प्रशांत भूषण का हमलावर

नई दिल्ली. 12 अक्टूबर 2011


टीम अन्ना के सदस्य और सुप्रसिद्ध अधिवक्ता प्रशांत भूषण के साथ मारपीट करने के मुख्य आरोपी तेजिंदरपाल सिंह बग्गा भगत सिंह क्रांति सेना का स्वयंभू अध्यक्ष है. उसने माना कि वह भाजपा के साथ भी जुड़ा रहा है. वह भाजयुमो की राष्ट्रीय कार्यकारणी का सदस्य रहा है. हमले का दूसरा आरोपी इन्द्र वर्मा श्री राम सेना दिल्ली का अध्यक्ष है. इसे 6 अक्टूबर को ही पार्टी ने अध्यक्ष बनाया है.

तेजिंदरपाल सिंह बग्गा


दिल्ली के सी-76 विष्णु गार्डन में रहने वाले 26 साल के इस युवक के खिलाफ कई मामले दर्ज हैं. ताजा मामले में उसने कहा कि कानून काम नहीं कर रहा था, इसलिये उसने हमले का सहारा लिया. उसने कहा कि कश्मीर को लेकर कोई कुछ कहे, यह बर्दाश्त योग्य नहीं है.

इससे पहले बग्गा और उसके साथियों ने 20 मई को इंडिया हैबीटेट सेंटर में भी हंगामा मचाया था. 2010 में इसने मीरवाईज पर भी हमला किया था. इसके अलावा कश्मीरी नेता गिलानी पर भी इसने हमला बोला था. स्वामी अग्निवेश पर हमला करने वालों के साथ भी बग्गा की अच्छी दोस्ती रही है.

ज्ञात रहे कि बुधवार की शाम तीन लोगों ने प्रशांत भूषण के सुप्रीम कोर्ट स्थित कार्यालय में घुसकर उनके साथ मारपीट की थी और उन्हें कुर्सी से गिरा दिया था. इस घटना के बाद दो युवक भाग गये, जबकि तीसरे युवक को पकड़ लिया गया था. युवक प्रशांत भूषण द्वारा कश्मीर में जनमत संग्रह कराए जाने संबंधी उनके बयान से नाराज बताये जा रहे थे.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

अरूण सिँह [oasisald2@yahoo.com] बलिया - 2011-10-14 14:33:24

 
  प्रशाँत भूषण के कश्मीर पर दिए बयान से सहमत या असहमत होना अलग बात है। टीम अन्ना मेँ वह रहते हैँ या नहीँ यह बात भी दीगर है। लेकिन विरोध या असहमति जताने के इस तरीके की वकालत कत्तई नहीँ की जा सकती। श्री राम सेना हो या कोई अन्य सेना किसी को भी ऐसे फासिस्ट तरीके अपनाने की इजाजत नहीँ दी जा सकती। अब समय आ गया है जब ऐसे सँगठनोँ पर पूर्ण प्रतिबँध लगाया जाय। वैलेँटाईन डे से लेकर कश्मीर मुद्दे तक ये अपने आपको हर बात का स्वयँभू ठेकेदार समझते हैँ। देशभक्ति तो केवल इनकी जागीर है और जो भी इनके विचारोँ से सहमत नहीँ वह देशद्रोही है और ये उसका सिर फोड़ देँगे। यह इस देश का दुर्भाग्य है कि गुँडोँ और अपराधियोँ के समूह को भी राजनीतिक मँच मिल जाता है। ऐसे सभी तत्व भ्रष्ट राजनीतिज्ञोँ द्वारा अपने स्वार्थोँ के लिए इस्तेमाल किए जाते हैँ।
पुलिस की मौजुदगी मेँ हुई यह गुँडागर्दी कहीँ सत्ताधारी दल के इशारोँ पर तो नहीँ हो रही है? इस बात की जाँच अवश्य होनी चाहिए। इन पर सख्त कार्रवाई कर काँग्रेस अपना रुख साफ करे। .....और इन गुँडोँ को भी यह समझाना होगा कि अहिँसा का मतलब कायरता नहीँ होता।
 
   
 

Himanshu [patrakar.himanshu@gmail.com] New Delhi - 2011-10-13 05:02:15

 
  रविवार पर ऐसे लोगों के बारे में खबर छापना समझ से परे है. वैसे भगत सिंह का नाम बदनाम करने वाले बग्गा जैसे बेवकूफों को तो मेरी राय में बच्चों के एम्यूजमेंट पार्क में भिजवा देना चाहिये. 
   
 

Sujeet Khanna [sujeet.khanna@gmail.com] New Delhi - 2011-10-13 05:00:03

 
  बग्गा जैसे सिरफिरे लोगों को आगरा पागलखाने भिजवा देना चाहिये. ऐसे ही समाज के गंदे लोगों ने समाज को गंदा कर रखा है. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in