पहला पन्ना >राजनीति >नेपाल Print | Share This  

नेपाल को चाहिये नया लोकतंत्र-बाबूराम भट्टाराई

नेपाल को चाहिये नया लोकतंत्र-बाबूराम भट्टाराई

नई दिल्ली. 20 अक्टूबर 2011

नेपाल के प्रधानमंत्री डॉ. बाबूराम भट्टाराई ने कहा है कि नेपाल को एक नये तरह के लोकतंत्र की जरुरत है और हमारी कोशिश है कि वहां हम लोकतंत्र का एक नया मॉडल बना सकें. उन्होंने कहा कि दुनिया भर में चल रहे आंदोलनों से सबक लेने की जरुरत है.

बाबुराम भट्टाराई


चार दिन की भारत यात्रा पर पहुंचे प्रधानमंत्री बाबूराम यहां साउथ एशियन फोरम फॉर पीपल्स इनिशिएटिव और समकालीन तीसरी दुनिया द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में अपना वक्तव्य दे रहे थे. उन्होंने कहा कि कि हम मार्क्सवादी बहुत जड़सूत्रवादी और संकुचित विचार के होते हैं और दूसरी तरह के आंदोलनों से सबक नहीं लेते. हमें दक्षिण एशिया के विचारकों के सबक लेने की जरूरत है.

उन्होंने दस साल पहले अपनी पार्टी द्वारा दक्षिण एशिया में ‘जन सार्क’ के निर्माण की पहल की चर्चा करते हुये कहा कि भारत और नेपाल की जनता को एकजुट होकर काम करना चाहिये. उन्होंने साफ किया कि वे हमेशा वर्ग, जातीय और लैंगिक अधिकारों के लिए चल रहे संघर्ष के साथ खड़े हैं.

इससे पहले काठमांडू में भारत रवाना होने से पहले बाबूराम भट्टाराई ने कहा कि भारत के साथ संबंधों में कुछ ‘खास गलतफहमियां, संदेह और समस्यायें’ हैं लेकिन वे इस मुद्दे पर भारत में कोई चर्चा नहीं करेंगे. उन्होंने उम्मीद जताई कि भारत की यह यात्रा नये संबंधों का सूत्रपात करेगी. उन्होंने एक समाचार एजेंसी से बातचीत में कहा कि माओवाद का मुद्दा भारत के साथ संबंधों में बाधक नहीं बनेगा.