पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राज्य >उ.प्र. Print | Share This  

मायावती सरकार करेगी अधिग्रहण की जांच

मायावती सरकार करेगी अधिग्रहण की जांच

इलाहाबाद. 21 अक्टूबर 2011

इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के बाद मायावती सरकार ने कहा है कि वह भूमि अधिग्रहण के पूरे मामले की जांच करेगी. सरकार का कहना है कि गड़बड़ी कहां हुई है, इसका पता लगाया जाएगा. वहीं इस फैसले के बाद से ग्रेटर नोएडा के इलाके में किसान दीवाली मना रहे हैं. कोर्ट का फैसला आते ही लगभग सभी गांवों में किसानों ने ढ़ोल-नगाड़ों के साथ फैसले का स्वागत किया. किसानों का कहना है कि उनके साथ आखिर न्याय हुआ. हालांकि कुछ गांवों में किसानों ने इस फैसले के खिलाफ मामले को उच्चतम न्यायालय में ले जाने की बात भी कही है.

मायावती


गौरतलब है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ग्रेटर नोएडा के 58 गांवों के किसानों को 64 फीसदी अधिक मुआवजा देने का आदेश दिया है. साथ ही अदालत ने तीन गांवों में किये गये भूमि अधिग्रहण को रद्द कर दिया. अदालत ने किसानों को 10 फीसदी विकसित जमीन देने का भी आदेश दिया है.

नोएडा के 23 और ग्रेटर नोएडा के 40 गांव के किसानों की ओर से दाखिल याचिकाओं में किसानों ने करीब 5,000 हेक्टेयर जमीन के अधिग्रहण को चुनौती दी थी. किसानों का कहना था कि अथॉरिटी ने अर्जेंसी क्लॉज लगाकर उनकी जमीन औने-पौने भाव में ले ली और बाद में बड़े-बड़े बिल्डरों को बेच दिया.

इस फैसले के बाद मायावती सरकार ने जांच की बात कही है. भूमि अधिग्रहण के मुद्दे पर हाईकोर्ट ने मुख्य सचिव को आदेश दिया है कि किसी वरिष्ठ अधिकारी के नेतृत्व में एक कमेटी बनाए और पूरे मामले की जांच करे कि आखिर इस तरह से भूमि अधिग्रहण की कार्रवाई कैसे की गई. कोर्ट के आदेश पर राज्य सरकार ने कहा कि वह जल्दी ही मामले की जांच कराएगी.

इधर कुछ किसान संगठनों ने हाईकोर्ट के इस फैसले से असंतोष जताया है. किसान संघर्ष समिति के के नेता दुष्यंत नागर ने कहा है कि किसानों के लिये यह फैसला चौंकाने वाला है. उन्होंने कहा कि कोर्ट के इस फैसले से हम नाखुश हैं और मामले को उच्चतम न्यायालय में ले कर जाएंगे.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in