पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

कर्नल गद्दाफ़ी की वसीयत मिली

कर्नल गद्दाफ़ी की वसीयत मिली

काहिरा. 24 अक्टूबर 2011

लीबिया के अपदस्थ नेता कर्नल मुअम्मर गद्दाफी का वसीयतनामा रविवार को उनके समर्थकों की वेबसाईट पर जारी किया गया है. इस वेबसाईट के अनुसार कर्नल गद्दाफी ने अपनी वसीयत की तीन प्रतियां बनाई थी, जिसे तीन विश्वस्तों को सौंपा गया था. इसमें से एक की लड़ाई के दौरान मौत हो गई, दूसरे को विद्रोहियों ने गिरफ्तार कर लिया, जबकि तीसरा व्यक्ति सुरक्षित है.

गद्दाफी


कर्नल मुअम्मर गद्दाफी ने अपनी वसीयत में लिबिया की आम जनता से अनुरोध करते हुये कहा गया है कि वो विद्रोही ताकतों द्वारा किए जा रहे आक्रमण का आज, कल और भविष्य में भी हमेशा इसी तरह से पुरज़ोर विरोध करें. यह है कर्नल गद्दाफी की वसीयत-

“ये मेरी वसीयत है. मैं मोहम्मद बिन अब्दुल्लस्सलाम बी हुमायद बिन अबू मानयर बिन हुमायद बिन नयिल अल फुह़शी गद्दाफ़ी, कसम खाकर कहता हूँ कि दुनिया में अल्लाह़ के अलावा कोई भगवान नहीं, और मोहम्मद खु़दा के पैगंबर हैं. मैं वचन देता हूँ कि मैं एक सच्चे मुसलमान की मौत मरुंगा.

अगर मैं मारा जाता हूँ तो जिन कपड़ों में मेरी मौत होती है उन्हीं कपड़ों में मेरे शरीर को बग़ैर नहलाए सिर्त में मेरे परिवार और रिश्तेदारों के नज़दीक मुस्लिम रीति रिवाज़ों के अनुसार दफ़नाया जाए.

मैं ये चाहूँगा कि मेरी मौत के बाद मेरी पत्नी, बच्चों और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ अच्छा सलूक किया जाए.
लीबिया के लोग अपनी पहचान, पूर्वजों और देश के नायकों के द्वारा किए अच्छे कामों और बलिदानों को छोड़े नहीं.

मैं लोगों से आह्वान करता हूँ कि वो विद्रोही ताकतों द्वारा किए जा रहे आक्रमण का आज, कल और भविष्य में भी हमेशा इसी तरह से पुरज़ोर विरोध करें.

मैं चाहता हूँ कि आज़ाद दुनिया के लोग इस सच को जानें कि अगर हम चाहते तो अपने निजी फ़ायदों के लिए दूसरी ताकतों के साथ समझौता कर सकते थे लेकिन हमने ऐसा नहीं किया.

हमें ऐसी कई पेशकश मिलीं लेकिन हमने उन्हें स्वीकार करने के बजाए इस आंदोलन का नेतृत्व करने का फैसला किया क्योंकि हमारे लिए हमारे राष्ट्रगौरव की रक्षा करना पहला फर्ज़ था.

अगर हम तुरंत सफल नहीं भी होते हैं तो भी,आगे के नस्लों को ये सीख दे पाएँगे कि अपने देश की रक्षा करने का फैसला करना ही गर्व की बात है.

और अगर आप अपने देश की इज्ज़त को दूसरी ताक़तों के आगे बेच देते हैं तो, इतिहास में आपका नाम अपनी मातृभूमि के साथ विश्वासघात करने वाले शख्स़ के तौर पर दर्ज किया जाएगा...जिसे आप कभी भी बदल नहीं पाएंगे."


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in