पहला पन्ना >राजनीति >समाज Print | Share This  

रा.वन से निराश हैं दर्शक

रा.वन से निराश हैं दर्शक

मुंबई. 26 अक्टूबर 2011

शाहरुख खान की बुधवार को रिलीज हुई फिल्म रा.वन के गाने भले लोगों की जुबान पर चढ़ जायें लेकिन फिल्म कुछ खास कर पाएगी, इसमें लोगों को शक है. 100 करोड़ की लागत से बनी इस एक्शन पैक्ड फिल्म को पहले दिन देखने वाले दर्शकों का मानना है कि जिन्हें तकनीक का पता है, उनके लिये भी इस फ़िल्म में औसत मनोरंजन ही है.

रा-वन


अनुमान लगाया गया है कि केवल फिल्म के प्रचार पर ही शाहरुख खान ने 52 करोड़ रुपये खर्च कर दिये हैं. इस तरह लगभग 150 करोड़ रुपये की यह फिल्म कितना मुनाफा कमा पाएगी, इसका आकलन करना मुश्किल है. फिल्म को देशभर के 3000 से ज्यादा सिनेमाघरों में जारी किया गया है.

कुछ दिनों पहले ही रा.वन से पहले साइंस फिक्शन पर रजनीकांत की रोबोट भी आई थी. दर्शकों को उम्मीद थी कि स्पेशल इफेक्ट्स के मामले में यह फिल्म रोबोट से आगे जाएगी लेकिन ऐसे दर्शकों को निराशा होगी. रा.वन को देखते हुये बार-बार रोबोट की याद आती है. पूरी फिल्म बाप-बेटे की एक ऐसी कहानी के इर्द-गिर्द घुमती है, जिसमें पिता एक ऐसा वीडियो गेम तैयार करता है, जिसका पात्र सुपरपावर युक्त है. संकट तब शुरु होता है, जब वह पात्र असली जिंदगी में आ जाता है.

दर्शकों का कहना है कि फिल्म की शुरुवाती कहानी अच्छी है लेकिन कहानी जैसे-जैसे आगे बढ़ती जाती है, फिल्म का ताना-बाना बिखरने लग जाता है और इंटरवल के बाद फिल्म के स्पेशल इफेक्ट्स भी दर्शकों को बांध पाने में असफल हो जाते हैं.

शाहरुख ने इस फिल्म के प्रचार-प्रसार के लिये, जितने प्रयत्न किये हैं, वो दर्शाता है कि इस फिल्म के सहारे वे अपने को बालीवुड का सुपरहीरो साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते थे. लेकिन रा.वन फिल्म उन्हें सुपरहीरो नहीं बना पाएगी, यह पहले ही दिन साबित हो गया है.