पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >कला >अर्थ-बेअर्थ Print | Share This  

रा.वन कमाई में भी पीछे

रा.वन कमाई में भी पीछे

मुंबई. 28 अक्टूबर 2011


दीपावली पर आई शाहरुख खान की फिल्म रा.वन बॉक्स ऑफिस पर कोई बम नही फोड़ पाई. शाहरुख अपनी इस फिल्म से जितनी उम्मीद लगाए बैठे थे, उसकी तुलना में फिल्म का हाल बुरा है. रा.वन की कुल जमा ओपनिंग 18.5 करोड़ रुपये ही रही. यह तब हुआ है, जब इस फिल्म को देश के 3100 सिनेमाघरों में प्रदर्शित किया गया है और कई भाषाओं में इसे पेश किया गया है. इसके उलट सलमान खान की 2750 सिनेमाघरों में केवल हिंदी में आई बॉडीगार्ड ने पहले दिन 21.5 करोड़ रुपये का व्यापार किया था.

रा.वन


फिल्म की हालत का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि दीवाली के दिन मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज पर रा.वन को डिस्ट्रीब्यूट करने वाली कंपनी इरोज इंटरनैशनल के शेयर 1 फीसदी गिरकर 263.65 रुपये पर बंद हुए थे.

100 करोड़ की लागत से बनी इस एक्शन पैक्ड फिल्म को पहले दिन देखने वाले दर्शकों का मानना है कि जिन्हें तकनीक का पता है, उनके लिये भी इस फ़िल्म में औसत मनोरंजन ही है.

अनुमान लगाया गया है कि केवल फिल्म के प्रचार पर ही शाहरुख खान ने 52 करोड़ रुपये खर्च कर दिये हैं. इस तरह लगभग 150 करोड़ रुपये की यह फिल्म कितना मुनाफा कमा पाएगी, इसका आकलन करना मुश्किल है.

कुछ दिनों पहले ही रा.वन से पहले साइंस फिक्शन पर रजनीकांत की रोबोट भी आई थी. दर्शकों को उम्मीद थी कि स्पेशल इफेक्ट्स के मामले में यह फिल्म रोबोट से आगे जाएगी लेकिन ऐसे दर्शकों को निराशा होगी. रा.वन को देखते हुये बार-बार रोबोट की याद आती है. पूरी फिल्म बाप-बेटे की एक ऐसी कहानी के इर्द-गिर्द घुमती है, जिसमें पिता एक ऐसा वीडियो गेम तैयार करता है, जिसका पात्र सुपरपावर युक्त है. संकट तब शुरु होता है, जब वह पात्र असली जिंदगी में आ जाता है.

दर्शकों का कहना है कि फिल्म की शुरुवाती कहानी अच्छी है लेकिन कहानी जैसे-जैसे आगे बढ़ती जाती है, फिल्म का ताना-बाना बिखरने लग जाता है और इंटरवल के बाद फिल्म के स्पेशल इफेक्ट्स भी दर्शकों को बांध पाने में असफल हो जाते हैं.

शाहरुख ने इस फिल्म के प्रचार-प्रसार के लिये, जितने प्रयत्न किये हैं, वो दर्शाता है कि इस फिल्म के सहारे वे अपने को बालीवुड का सुपरहीरो साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते थे. लेकिन रा.वन फिल्म उन्हें सुपरहीरो नहीं बना पाएगी, यह पहले ही दिन साबित हो गया है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in