पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >उ.प्र. Print | Share This  

कांग्रेस ने लगाया मायावती पर बहानेबाजी का आरोप

कांग्रेस ने लगाया मायावती पर बहानेबाजी का आरोप

नई दिल्ली. 29 अक्टूबर 2011

उत्तर प्रदेश में अपराध और मनरेगा के मुद्दे पर जयराम रमेश और मायावती के बीच चल रहे विवादों पर कांग्रेस पार्टी ने कहा है कि मायावती शोर करके तथ्यों को झुठला नहीं सकतीं. पार्टी ने मायावती पर बहानेबाजी का आरोप लगाया है.

मायावती


ज्ञात रहे कि केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने पिछले दिनों उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती को एक पत्र लिख कर राज्य में मनरेगा में वृहद घोटालों को रोकने की मांग की थी. जिसके जवाब में मायावती ने प्रधानमंत्री को पत्र लिख कर जयराम रमेश के पत्र को राजनीति से प्रेरित बताया था.

अब कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने मायावती के आरोपों पर कहा है कि मायवती केवल शोर मचा रही हैं और तथ्यों को झुठलाने का काम कर रही हैं. सिंघवी ने जयराम रमेश की बातों को दुहराते हुये कहा कि अकेले उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में मनरेगा के कोष से तीस लाख रूपये के खिलौने खरीदे गये, यह प्रदेश की जनता के साथ खिलवाड़ है. राज्य के बलरामपुर में 80 लाख रूपये का टेंट खरीदा गया, जो सरासर नियम विरुद्ध है.

सिंघवी ने राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो द्वारा जारी किये गये वर्ष 2010 के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि पूरे देश में जितने अपराध दर्ज किये गये उनमें 33 प्रतिशत मामले अकेले उत्तर प्रदेश में दर्ज हुए हैं और उत्तर प्रदेश इस मामले में अग्रणी हैं.

सिंघवी ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश की नौकरशाही हतोत्साहित है और वरिष्ठता और ईमानदारी वहां अयोग्यता बन गयी है. राज्य में केवल पक्षपात को बढावा दिया जाता है. सरकार घोटालों की जांच कराने के बजाये बहानेबाजी कर रही है.

इससे पहले जयराम रमेश भी मायावती के आरोपों को खारिज कर चुके हैं. रमेश ने मायावती के आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि उच्चर प्रदेश में धन के गबन की घटनाएं सामने आई हैं और अधिकारियों के खिलाफ काफी साक्ष्य हैं। उन्होंने दावा किया था कि राष्ट्रीय स्तर के मॉनीटरों यानी एनएलएम और प्रदेश गुणवत्ता मॉनीटर यानी एसक्यूएम की रिपोर्ट के आधार पर ही उन्होंने मायावती को मनरेगा में भ्रष्टाचार रोकने के लिये पत्र लिखा था.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in