पहला पन्ना >राजनीति >आतंकवाद Print | Share This  

लेडी अल कायदा को 15 साल की जेल

लेडी अल कायदा को 15 साल की जेल

रियाद. 30 अक्टूबर 2011

लेडी अल कायदा के नाम से मशहुर हैला अल कसीर को रियाद की एक विशेष अदालत ने 15 साल की सजा सुनाई है. इस महिला पर आरोप है कि उसने आतंकवादी गतिविधियों में हिस्सा लिया और आतंकवादियों की मदद की. हैला पर सुरक्षा अधिकारियों पर हमले का भी आरोप है. हालांकि हैला ने इन आरोपों से इंकार किया है.

लेडी अल कायदा


इस महिला पर आरोप है कि उसने यमन और अफगानिस्तान में अल कायदा के आतंकवादियों के साथ संपर्क रखा और उन्हें लगभग एक करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता भी पहुंचाई.

37 साल की हैला के वकील का कहना है कि वे इस मामले में अपील करेंगे. उनका आरोप है कि हैला को गलत तरीके से इस मामले में फंसाया गया है.

हैला को पिछले साल मार्च में गिरफ्तार किया गया था. कहा जाता है कि वहां वह यमन में अल कायदा के दूसरे नंबर के नेता सईद अल शहरी से ब्याह रचाने वाली थी.

गौरतलब है कि अलकायदा ने सबसे पहले अमरीका की सहायता से ही आठवें दशक में अपनी स्थापना के बाद चेचेन्या में रुस के खिलाफ लड़ाई लड़ी और उसके बाद दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में अलकायदा ने ऐसी लड़ाइयों में भाग लेना शुरु किया, जिसके बारे में उसने आरोप लगाया कि वहां मुसलमानों पर अत्याचार हुये हैं. बाद में अलकायदा ने 9-11 के हमले किये और अमरीका को उसने दुश्मन नंबर वन घोषित कर दिया. इस संगठन ने बड़ी संख्या में महिलाओं की भी भर्ती की, जो अल कायदा के कामों में सहायता करती हैं.