पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >मुद्दा >झारखंड Print | Share This  

मधु कोडा की जेल में पिटाई, हाथ टूटा

मधु कोडा की जेल में पिटाई, हाथ टूटा

रांची. 1 नवंबर 2011. प्रभात खबर

चार हजार करोड़ रुपए के घोटाले के आरोप में जेल में बंद झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोडा की अच्छे भोजन की मांग पर सोमवार को कथित रुप से रांची स्थित होतवार जेल के सिपाहियों ने पिटाई कर दी, जिससे वह घायल हो गए और उन्हें राजेन्द्र आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कराया गया.

मधु कोड़ा


झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और सांसद मधु कोडा ने आरोप लगाया कि रांची स्थित होतवार जेल में अच्छे भोजन की मांग के साथ वह दो दिनों से जेल के भीतर ही अनशन पर थे. मगर अच्छा भोजन देने के बजाय सोमवार को जेल के सिपाहियों ने उनकी पिटाई कर दी, जिससे उनके दाहिने हाथ की हड्डी टूट गयी. जेल से इलाज के लिए राजेन्द्र आयुर्विज्ञान संस्थान रिम्स ले जाते समय मीडिया से बातचीत में कोडा ने आरोप लगाया कि अच्छे भोजन की मांग करने पर उनके ऊपर जेल प्रशासन ने लाठीजार्च कराया, जिससे वह घायल हो गए. कोडा ने कहा, ‘‘जेल में मेरी जान को खतरा है. मेरी पिटाई के पूरे मामले की न्यायिक जांच करवाई जाये.’’

इस बीच, जेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर बताया कि जेल के भीतर हाथापाई में कोडा गिर गए और उनके दायें हाथ में चोट आयी है. कोडा को चोट लगने के बाद रिम्स में भर्ती करा दिया गया है. घटना के कारणों के बारे में उन्होंने कुछ भी बताने से इंकार कर दिया.

कोडा मुख्यमंत्री के रुप में चार हजार करोड रुपए से अधिक के घोटाले के आरोप में तीन नवंबर 2009 को गिरफ्तार हुए थे और उसी समय से वह जेल में बंद हैं. मधु कोडा ने मीडिया से कहा, ‘‘मैं भोजन की गुणवत्ता की जांच के लिए गया था कि अचानक हमारे उपर हमला हो गया जिससे हमें चोटें आयी हैं.’’

कोडा और उनके 2008 की मंत्रिमंडल के अनेक सहयोगी जेल में बंद हैं और वह कई बार जेल में प्रताड़ना और गलत व्यवहार की शिकायत करते रहे हैं. इस बीच, घटना के बारे में पूछे जाने पर झारखंड के उपमुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इस घटना की निंदा की और कहा कि इस तरह की घटना कतई स्वीकार्य नहीं है और ऐसा नहीं होना चाहिए था. हेमंत सोरेन ने इस मामले की जांच के आदेश दिये हैं और कहा है कि जांच की रिपोर्ट आ जाने पर दोषियों के खिलाफ़ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

रिम्स के प्रवक्ता ने बताया कि अस्पताल में भर्ती पूर्व मुख्यमंत्री कोडा को गहन चिकित्सा कक्ष में रखा गया है और उनकी पूरी तरह से जांच की जा रही है. फ़िलहाल उनका स्वास्थ्य ठीक है. उन्होंने कहा कि जांच की प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही उनकी चोट के बारे में विस्तार से बताया जा सकेगा. रिम्स में मधु कोडा की जांच कर रहे डाक्टरों ने अखबार प्रतिनिधियों से बातचीत के दौरान बताया है कि पिटाई में मधु कोडा के दाहिने हाथ की हड्डी टूट गयी है.

कोडा के खिलाफ़ केन्द्रीय जांच ब्यूरो, आयकर विभाग, प्रवर्तन निदेशालय और झारखंड सतर्कता विभाग भ्रष्टाचार के मामलों में जांच कर रहे है. पत्रकारों से फोन पर बातचीत के दौरान कोडा ने आरोप लगाया है कि उनपर सिपाहियों द्वारा यह हमला एक सोची समझी साजिश का नतीजा था. दरअसल उनके हत्या की कोशिश की गयी है. इस घटना की शिकायत वह लोकसभा स्पीकर से करेंगे.

जेल में मधु कोडा की पिटाई पर उनकी पत्नी और विधायक गीता कोडा ने इस घटना को सरकार और जेल प्रशासन की साजिश करार दिया है. उन्होंने एक टीवी चैनल को फोन पर दिए गए इंटरव्यू में कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान में सांसद सदस्य मधु कोडा की जेल के अंदर पुलिसकर्मियों द्वारा पिटाई एक सोची समझी साजिश का नतीजा है. मधु कोडा कोई अपराधी नहीं, महज एक विचाराधीन कैदी हैं. उनकी सुरक्षा की पूरी जिम्मेवारी सरकार की है. जबकि, यह सब सरकार के इशारे पर हुआ है. लेकिन, हमलोग ऐसा नहीं होने देंगे.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in