पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

रिटायर्ड जज करेंगे टीम अन्ना की जांच

रिटायर्ड जज करेंगे टीम अन्ना की जांच

नई दिल्ली. 6 नवंबर 2011.

अन्ना हजारे


टीम अन्ना पर लगे आरोपों की जांच किसी रिटायर्ड जज से कराई जाएगी. यह निर्णय किसी और ने नहीं, टीम अन्ना ने ही लिया है. विरोधियों और फिर अपनी ही टीम के सदस्यों की आलोचना झेल रही टीम अन्ना का कहना है कि वह अपने ऊपर लगे तमाम आरोपों की जांच किसी रिटायर्ड जज से कराएगी. इसके लिये किसी रिटायर्ड जज की तलाश भी शुरु हो गई है.

टीम अन्ना के सदस्य और सुप्रसिद्ध अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने कहा कि टीम के सदस्यों पर कई तरह के आरोप लगे हैं. हालांकि अधिकांश आरोप झुठे और बेबुनियाद हैं और राजनीतिक कारणों से लगाये गये हैं लेकिन अन्ना हजारे ने फैसला लिया है कि सारे आरोपों की जांच किसी रिटायर्ड जज से कराई जाए.

प्रशांत भूषण का कहना है कि इसके लिये आने वाले एक पखवाड़े के भीतर जांच टीम की घोषणा कर दी जाएगी. इसके लिये उन्होंने किसी रिटायर्ड जज की तलाश शुरु कर दी है.

गौरतलब है कि अन्ना हजारे ने पहले ही कह रखा है कि भविष्य में आंदोलन के लिए एक संविधान बनाया जाएगा़ और संविधान रचना के बाद कोर कमेटी का पुनर्गठन होगा. टीम अन्ना चाहती है कि उससे पहले रिटायर्ड जज से जांच करवा कर उसकी रिपोर्ट सार्वजनिक की जाए, जिससे आम जनता में टीम अन्ना की विश्वसनीयता बनी रहे. टीम की अहम सदस्य किरण बेदी पर फर्जी तरीके से अधिक किराया वसूलने का आरोप है तो अरविंद केजरीवाल पर अन्ना हजारे के आंदोलन के दौरान अपने एनजीओ के कोष में चंदा लेने का आरोप है. दिग्विजय सिंह, स्वामी अग्निवेश और राजेंद्र सिंह समेत कई लोगों ने टीम अन्ना पर आर्थिक अनियमितता का आरोप लगाया है.