पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >कला >बात Print | Share This  

बच्चन परिवार के बच्चे पर चैनलों का ड्रामा नहीं

बच्चन परिवार के बच्चे पर चैनलों का ड्रामा नहीं

नई दिल्ली. 8 नवंबर 2011

बच्चन परिवार


ऐश्वर्या राय और अभिषेक बच्चन के होने वाले बच्चे को लेकर अब टीवी चैनल कोई तमाशा नहीं करेंगे. किसी अधिकृत घोषणा से पहले चैनल अमिताभ बच्चन के परिवार में आने वाले बच्चे को लेकर कोई खबर भी ब्रेक नहीं करेंगे. ब्रॉडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन ने अपने सदस्य टीवी चैनलों को एक दिशा-निर्देश जारी करते हुये कहा है कि बच्चन परिवार में पैदा होने वाले वाले मेहमान की कोई प्री-कवरेज न की जाये.

टीवी चैनलों द्वारा अभी से अमिताभ बच्चन के परिवार में आने वाले मेहमान को लेकर जिस तरह से बेताबी दिखाई जा रही है, उसको लेकर बच्चन परिवार से पहले ही ब्रॉडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन ने अपने सदस्यों के लिये दिशा निर्देश जारी किये हैं.

ब्रॉडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन ने अपने दिशा निर्देश में कहा है कि किसी अधिकृत घोषणा से पहले टीवी चैनल बच्चन परिवार के पैदा होने वाले बच्चे को लेकर कोई भी खबर ब्रेक नहीं करेंगे. साथ ही साथ बच्चन परिवार के घर और अस्पताल में कोई भी कैमरामैन या ओबी वैन नहीं भेजा जाएगा.

बात यहीं नहीं खत्म हुयी. एसोसिएशन ने कहा है कि कोई भी टीवी चैनल बच्चे की एमएमएस या फोटो चैनल पर तब तक नहीं दिखाएंगे, जब तक बच्चन परिवार उसे अपनी तरफ से नहीं जारी करे. बच्चे की कोई भी खबर एक मिनट से अधिक की नहीं होगी और बच्चे के भविष्य को लेकर ज्योतिषियों को बैठा कर भी कार्यक्रम करने पर प्रतिबंध लगाया गया है.

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह ही भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष न्यायमूर्ति मार्कंडेय काटजू ने इस बात पर आपत्ति दर्ज करायी थी कि चैनल गैरजरुरी मुद्दों को ज्यादा स्थान देते हैं. उन्होंने उदाहरण देते हुये कहा था कि देश के असली मुद्दे आर्थिक हैं, जिसमें देश की 80 फीसदी जनता जी रही है. आवासीय भवनों, दवा-दारु का अभाव आदि जैसे मुद्दों पर ध्यान देने के बजाय मीडिया महत्वहीन मुद्दों पर जनता का ध्यान मोड़ती है कि फलां अभिनेता की पत्नी गर्भवती है, वह एक बच्चे को जन्म देगी या जुड़वा बच्चों को.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

अनुपम सिंह [anupam26@live.com] दैनिक भास्कर बिलासपुर - 2011-11-08 19:12:14

 
  देर से ही सही भारतीय प्रेस परिषद ने अपनी जवाबदारी समझते हुए यह फैसला लिया है। उम्मीद की जानी चाहिए कि इन दिशा निर्देशों पर भविष्य में भी अमल होगा और मीडिया गैरजरूरी बातों को महत्व देने से परहेज करेगी। 
   
 

अतुल श्रीवास्‍तव [aattuullss@gmail.com/ atulshrivastavaa.blogspot.com] राजनांदगांव,, छत्‍तीसगढ - 2011-11-08 18:51:10

 
  देखते हैं... इन निर्देशों का क्‍या असर होता है मीडिया पर । यही क्‍या ऐसे कई गैर जरूरी मुद्दे हैं जिन पर मीडिया में विशेष सेगमेंट और बहसबाजी चलती रहती है पर जरूरी मुद्दे दरकिनार हो जाते हैं.... शायद जरूरी मुद्दों से टीआरपी नहीं मिलती। ब्रॉडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन के निर्देश पर इस \'बंपर\' टीआरपी वाले विषय पर मीडिया का रूख क्‍या होगा... देखने वाली बात होगी । 
   
 

Malay [mala.vishwas@hcl.com] Noida - 2011-11-08 11:02:00

 
  बिल्कुल ऐसा ही होना चाहिये. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in