पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >पाकिस्तान Print | Share This  

कसाब आतंकवादी, फांसी दे दो- पाकिस्तान

कसाब आतंकवादी, फांसी दे दो- पाकिस्तान

अद्दू अतोल. 10 नवंबर 2011.

अजमल कसाब


अजमल कसाब को मुंबई पर हमले के लिए फाँसी दी जानी चाहिये, यह मांग पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने की है. पाकिस्तान के गृह मंत्री की मालदीव में की गई इस घोषणा के साथ ही पाकिस्तान ने यह विश्वास दिलाने की कोशिश की है कि वह भारत के साथ अपने रिश्ते बेहतर करना चाहता है.

गौरतलब है कि हाल ही में पाकिस्तान ने भारत को सबसे अधिक वरीयता वाले देश का दर्जा दिया है. पाकिस्तान सरकार ने मुंबई हमले के बाद कहा था कि कसाब पाकिस्तान का नागरिक नहीं है. लेकिन जनवरी, 2009 में पाकिस्तान ने यह स्वीकार किया था कि वह पाकिस्तान का नागरिक है.

मालदीव में गुरूवार को शुरू होने वाले सार्क सम्मेलन से पहले रहमान मलिक ने कहा कि अजमल कसाब आतंकवादी है और उसने राज्य की मदद के बगैर अपनी मर्ज़ी से यह काम किया था. उन्होंने कसाब को 'नॉन स्टेट एक्टर' बताया.

इसी बीच प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी से गुरुवार को मालदीव में मिले. पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने दोनों नेताओं की भेंट के समय मीडिया से बातचीत में यह भी कहा कि मुंबई हमला या समझौता ब्लास्ट जैसी घटनाएं नहीं होनी चाहिए, इससे विश्वास घटता है.

रहमान मलिक ने भारतीय मीडिया को यह भरोसा दिलाया कि 26/11 को मुंबई पर हमले की साजिश रचने वालों के खिलाफ मुकदमे में पाकिस्तानी न्यायिक आयोग के भारत दौरे पर आने के बाद तेजी आएगी. पाकिस्तान के गृह मंत्री ने कहा, 'पाकिस्तान सरकार वहां के न्यायिक आयोग की भारत यात्रा की प्रतीक्षा कर रही है ताकि भारत में कुछ सुबूत हाथ लग सकें ताकि उनके देश में मौजूद आरोपियों के खिलाफ ठोस सुबूत पेश किया जा सके. एक बार जब वह आयोग भारत चला जाएगा तो उसकी रिपोर्ट पाकिस्तान की न्यायिक प्रक्रिया के लिए बेहद अहम होगी.'

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Sudhir sagar [sudhirsagar60 @gmail.com] Bareilly - 2013-04-26 14:43:11

 
  पाकिस्तान के विदेश मिनिस्टर ने ये कहा कि अजमल कसाब ने हमसे पूछ कर नहीं किया इसका मतलब पाकिस्तान सरकार की हेल्प से ये हमला करवाते हैं. अजमल की जगह कोई भी होता तो भारत उसे सज़ा देता. 
   
 

Dileep dubey [] Kannauj - 2012-11-24 15:46:21

 
  बहुत अच्छा किया, यही करना था. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in