पहला पन्ना >राज्य >समाज Print | Share This  

सौम्या मर्डर केस में हत्यारे को फांसी

सौम्या मर्डर केस में हत्यारे को फांसी

त्रिशूर. 11 नवंबर 2011

त्रिशूर के सौम्या मर्डर केस में स्थानीय फास्ट ट्रैक कोर्ट ने बलात्कार और हत्या के आरोपी गोविंदचामी को फांसी की सजा सुनाई है. अदालत ने कहा कि यह अत्यंत संगीन मामला है और ऐसे अपराधियों को अगर कड़ी सजा नहीं दी जायेगी तो समाज में ऐसे लोगों के हौसले बढ़ेंगे.

सौम्या


गौरतलब है कि एक फरवरी 2011 को ट्रेन के लेडिज कंपार्टमेंट में सफर कर रही सौम्या को तमिलनाडु के विरुदाचलम में रहने वाले आरोप गोविंदचामी ने उस समय चलती हुई ट्रेन से बाहर फेंक दिया था, जब ट्रेन वल्लाथोल स्टेशन से छूटी थी. इसके बाद आरोपी रेल्वे ट्रेक के सहारे घटनास्थल पर पहुंचा और फिर वहां घालय पड़ी सौम्या के साथ बलात्कार किया. बाद में 5 दिनों तक अस्पताल में भर्ती रही सौम्या ने 6 जनवरी को दम तोड़ दिया था.

केरल के इस बहुचर्चित मामले की सुनवाई त्रिशूर की फास्ट ट्रैक कोर्ट ने किया और कुल 154 लोगों की गवाही के आधार पर बलात्कार और हत्या के आरोपी गोविंदचामी को फांसी की सजा सुनाई. फास्ट ट्रैक कोर्ट के जज रवींद्र बाबू ने माना कि 30 साल के आरोपी गोविंदचामी का अपराध इतना गंभीर है कि इसे कड़ी सजा सुनाया जाना जरुरी है. आरोपी के खिलाफ 2004 से 2008 के दौरान तमिलनाडु में आठ मामले दर्ज किये गये थे. अदालत ने माना कि अपराध गोविंदचामी के स्वभाव का हिस्सा बन गया है.

हाल ही में राज्य के समाज कल्याण मंत्री एम के मुनीर ने माना था कि महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार के मामले में भी केरल आगे हो गया है. राज्य सरकार ने महिलाओं के लिये खास तौर पर शिकायत सेल बनाया है.