पहला पन्ना >राजनीति >राजस्थान Print | Share This  

भंवरी के बाद अब पारस देवी कांड

भंवरी के बाद अब पारस देवी कांड

जयपुर. 12 नवंबर 2011

भंवरी देवी के भंवर में फंसी राजस्थान सरकार अभी अपने पूर्व मंत्री महीपाल मदरेणा और मलखान सिंह से उबर भी नहीं पाई है कि अब पारस देवी का मामला सामने आ गया है. आरोप है कि डेढ़ महीने पहले 34 साल की पारस देवी की संदिग्ध मौत के मामले में गहलौत मंत्रीमंडल के वन और खनिज मंत्री रामलाल जाट शामिल हैं. भाजपा ने मांग की है कि पारस देवी के मामले की सीबीआई जांच की जाये.

पारस देवी


भीलवाड़ा डेयरी के अध्यक्ष रतनलाल चौधरी की पत्नी पारस देवी के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने जहर खा कर आत्महत्या कर ली थी, जिसके कारण 27 सितबंर को महात्मा गांधी अस्पताल में उनकी मौत हो गई थी. उस समय वहां उपस्थित मंत्री रामलाल जाट ने पारस देवी के परिजनों को बिना पोस्टमार्टम के ही लाश ले जाने के लिये बाध्य कर दिया.

परिजनों ने दूसरे अस्पताल में भी पोस्टमार्टम कराने की कोशिश की लेकिन मंत्री रामलाल जाट के दबाव में पारस देवी की लाश का पोस्टमार्टम किसी अस्पताल ने नहीं किया. अंततः परिवार के लोगों ने भीलवाड़ा में पहुंच कर पोस्टमार्टम कराया.

आरोप है कि भंवरी देवी की तरह ही पारस देवी को राजनेताओं ने इस्तेमाल किया और फिर संदिग्ध परिस्थितियों में उसकी मौत हो गई. पारस देवी के पिता का आरोप है कि उनकी बेटी की हत्या की गई है और उसकी हत्या में गहलौत मंत्रीमंडल के सदस्य रामलाल जाट शामिल हैं.