पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

कमजोर लोकपाल पर चुनाव में उतरेंगे अन्ना हजारे

कमजोर लोकपाल पर चुनाव में उतरेंगे अन्ना हजारे

रालेगण सिद्धी. 13 नवंबर 2011

अन्ना हजारे


समाजसेवी अन्ना हजारे ने कहा है कि जो राज्य सरकारे कमजोर लोकपाल लाएंगी, वो उसका चुनाव में विरोध करेंगे. उन्होंने कहा कि ऐसा करने वाली सरकारों के खिलाफ वे चुनाव प्रचार में भाग लेंगे और ऐसे लोगों को वोट नहीं देने की अपील करेंगे.

रालेगण सिद्धी में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि नवंबर तक नई कोर कमेटी के लिए आचार संहित बना ली जाएगी, जिसके बाद उनकी नई कोर कमेटी बन जाएगी और इसमें 50 से अधिक सदस्य नहीं होंगे. अपनी नई कोर कमेटी में अन्ना हजारे ने दलितों और मुस्लिमों को भी प्रमुखता देने की बात कही.

केंद्र सरकार द्वारा पांच बिल लाये जाने की आलोचना करते हुये उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार लोकपाल को कमजोर करने के लिए अलग-अलग पांच बिल ला रही है. ऐसा हुआ तो हम जेल भरो आंदोलन चलाएंगे.

इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि अगर शीत सत्र में लोकपाल बिल नहीं आया तो देश भर में जेल भरो आंदोलन चलाया जाएगी. अन्ना ने एक बार फिर दोहराया कि वो भ्रष्टाचार के खिलाफ है न कि किसी राजनीतिक पार्टी के. अन्ना ने कहा कि यदि कांग्रेस मजबूत लोकपाल बिल लाती है तो वो उसका समर्थन करेंगे.

टीम अन्ना पर हो रहे हमलों को लेकर सुरक्षा संबंधी सवालों का जवाब देते हुए अन्ना हजारे ने कहा कि सुरक्षा देने से किसी की जान नहीं बच जाती. यदि सुरक्षा से जान बच सकती तो राजीव गांधी और इंदिरा गांधी की हत्या नहीं होती. अन्ना ने कहा कि मैं अपनी जान हथेली पर लेकर आंदोलन चला रहा हूं, मौत मुझे नहीं डरा सकती. मैंने तो सरकार से सुरक्षा को और कम करने के लिए कहा है. उन्होंने कहा कि शहीद भगत सिंह, सुखदेव या राजगुरु ने कभी सुरक्षा नहीं मांगी.