पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >अर्थ-बेअर्थ Print | Share This  

निर्णय लेने वाली सरकार चाहिये-मुकेश अंबानी

निर्णय लेने वाली सरकार चाहिये-मुकेश अंबानी

मुंबई. 14 नवंबर 2011

देश के सबसे अमीर उद्योगपति रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने कहा है भारत में निर्णय लेने वाली सरकार की जरुरत है. उन्होंने कहा है कि एक लोकतांत्रिक देश में हम असहाय बन कर नहीं रह सकते. हमें एक ऐसी सरकार की जरुरत है, जो 21वीं सदी की सरकार हो और जो आर्थिक मुद्दों पर तत्काल निर्णय ले सके.

मुकेश अंबानी


विश्व आर्थिक मंच के भारतीय चैप्टर के उद्घाटन के अवसर पर आयोजित एक समारोह को संबोधित करते हुए मुकेश अंबानी ने कहा कि केंद्र और राज्य दोनों ही सरकारों को आर्थिक मुद्दों पर तत्काल निर्णय लेना चाहिये. उन्होंने सरकार पर आरोप लगाया कि सरकार की राजनीतिक अनिश्चितता की वजह से पैदा हुई नीतिगत खामियों का नुकसान औद्योगिक घरानों को उठाना पड़ता है.

मुकेश अंबानी ने कहा कि औद्योगिक घरानों और सरकार के बीच कुछ असंतुलन है. हम सभी एक ही दिशा में जा रहे हैं. कई बार आप अमरीका और यूरोप की तरह से लोकतंत्र का मूल्य देखते हैं. पर हम यह नहीं कह सकते कि वहां लोकतंत्र है इसलिए हम असहाय हैं. अंबानी ने कहा कि विपक्ष के विरोध का बहाना बना कर कुछ नहीं करने का बहाना हमारे जैसे लोगों के लिये चिंता का विषय है.

गौरतलब है कि 22.6 बिलियन की संपत्ति वाले दुनिया के चौथे सबसे अमीर व्यक्ति और देश के सबसे धनी व्यक्ति मुकेश अम्बानी ने 1981 में रिलायंस में काम संभाला और रिलायंस के पुराने ढर्रे के टेक्सटाइल कारोबार को पॉलिएस्टर फाइबर और फिर पेट्रोकेमिकल में आगे बढाया. इस प्रक्रिया में उन्होंने 60 नयी, विश्व स्तर की, विभिन्न तकनीकों से युक्त निर्माण सुविधाओं की रचना को निर्देशित किया, इस से रिलायंस की जो उत्पादन क्षमता 10 लाख टन प्रति वर्ष भी नही थी वह 1 करोड़ 20 लाख टन प्रतिवर्ष हो गयी. उसके बाद मुकेश ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा. मुकेश ने गुजरात के जामनगर में दुनिया की सबसे बड़ी पेट्रोलियम रिफायनरी की स्थापना की. बाद में रिलायंस कम्युनिकेशंस ने मुकेश अंबानी को एक नई पहचान दी.

हालांकि मुकेश अंबानी और इससे पहले उनके पिता धीरुभाई अंबानी पर सरकारों को उपकृत करके अपना उद्योग फैलाने का आरोप भी लगता रहा है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Abhay [abhaymalviya06@gmail.com] Lucknow - 2011-11-14 04:38:21

 
  मुकेश अंबानी जी ने बिल्कुल सही बात कही है. इस UPA-2 सरकार में Mind Power की कमी है. 
   
 

prataprai tanwani [tanwanipr@gmail.com] raipur c.g. - 2011-11-14 04:36:34

 
  regarding govt Ambani saying absolutely right. 
   
 

rupesh [rupeshkumar654@gmail.com] patna - 2011-11-14 04:25:34

 
  मुकेश अंबानी तुस्सी ग्रेट हो यार....!!!  
   
 

Ajay Modi [megaindia2007@yahoo.com] Beawar - 2011-11-14 03:32:31

 
  यदि कोई सरकार उपकृत हो कर किसी को धीरुभाई अंबानी बना सकती है तो किसी को भी ए राजा और कणीमोझी और कलमाड़ी की तरह जेल भी जाना पड़ेगा. ये अंबानी की योजना और उनकी कुशलता का कारण था और आज वे शीर्ष पर हैं. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in