पहला पन्ना >राजनीति >समाज Print | Share This  

ऑनर किलिंग में 15 को फांसी, 20 को उम्रकैद

ऑनर किलिंग में 15 को फांसी, 20 को उम्रकैद

मथुरा. 16 नवंबर 2011

ऑनर किलिंग


ऑनर किलिंग के 20 साल पुराने एक मामले में मथुरा की एक अदालत ने पंद्रह लोगों को फांसी और बीस लोगों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. इन हत्यारों पर आरोप है कि उन्होंने घर से भाग कर शादी करने वाले एक जोड़े और उनकी मदद करने वाले लड़के के चचेरे भाई को पंचायत में सजा सुना कर फांसी पर चढ़ा दिया था.

मामला 21 मार्च 1991 का है, जब मथुरा के बरसाना थानांतर्गत महराना गांव में जाटव समुदाय के श्यामा जाटव के बेटे बिजेंदर और जाट समुदाय के गंगा राम की बेटी रौशनी ने शादी कर ली थी. इस जोड़े के भाग कर शादी करने में लड़के के चचेरे भाई रामकिशन ने मदद की थी. बाद में जब यह जोड़ा गांव लौटा तो दोनों समुदाय के लोगों ने पंचायत की और बिजेंदर, रौशनी व इनकी मदद करने वाले रामकिशन को फांसी पर लटकाने का हुक्म दे दिया.

गांव के 55 लोगों ने एकमत हो कर इन तीनों को फांसी पर लटका दिया और जब तीनों की मौत हो गई तो इनके शव को जला दिया. बाद में जब मामला खुला तो सभी 55 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया. इस मामले में 16 लोग सुनवाई के दौरान ही मर गये, जबकि एक आरोपी फरार है. इसी मामले में 3 लोगों पर बाल न्यायालय में मुकदमा चल रहा था.

बुधवार को इस मामले की सुनवाई करते हुये अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश ए के उपाध्याय ने माना कि यह विरल में विरतम मामला है और इस तरह के मामले में कड़ी सजा दिया जाना अनिवार्य है. अदालत ने 15 हत्यारों को फांसी की सजा सुनाई और 20 को इस मामले में कठोर आजीवन कारावास का आदेश दिया. अदालत ने एक अभियुक्त को बरी करने का भी आदेश दिया है.