पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

शरद पवार को युवक ने चांटा मारा

शरद पवार को युवक ने चांटा मारा

नई दिल्ली. 24 नवंबर 2011

शरद पवार


केंद्रीय मंत्री शरद पवार को मंहगाई का विरोध करते हुये एक युवक ने चांटा जड़ दिया. केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार को हरविंदर सिंह नामक युवक ने उस समय चांटा मारते हुये हमला बोल दिया, जब गुरुवार को शरद पवार राजधानी में आयोजित एनडीएमसी में एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिये आये थे. बाद में सुरक्षाकर्मियों ने हरविंदर सिंह को हिरासत में ले लिया. उसने हिरासत में लिये जाने के बाद शरद पवार की ओर अपनी कृपाण निकालते हुये उन्हें चीर देने की बात कही.

गौरतलब है कि इससे पहले 2009 में गृह मंत्री पी चिदंबरम पर भी एक पत्रकार जनरैल सिंह ने जूता फेंका था. इसी साल जून में भी कांग्रेस महासचिव और प्रवक्ता जर्नादन द्विवेदी पर जूता फेंका गया था. इसके अलावा बाबा रामदेव और अरविंद केजरीवाल पर भी जूता उछालने की घटनाए हुई थीं. एक दिन पहले दिल्ली की ही एक अदालत में पूर्व मंत्री सुखराम को भी चांटा मारा था. कहा जा रहा है कि सुखराम को इसी युवक ने चांटा मारा था.

गुरुवार को शरद पवार एक आयोजन में शामिल होने के लिये आये थे. जब वो मंच के पास से निकल रहे थे, उसी समय वहां उपस्थित हरविंदर सिंह ने शरद पवार को तड़ाक से चांटा जड़ दिया. बाद में हरविंदर ने चाकू निकाल कर कहा कि वह शरद पवार को चीर देगा.

शरद पवार को चांटा मारने वाले हरविंदर ने बाद में पत्रकारों से बातचीत में स्वीकार किया कि उन्होंने शरद पवार को चांटा मारकर अच्छा काम किया है. हरविंदर का कहना था कि देश में महंगाई लगातार बढ़ती जा रही है और बेशर्म सरकार कुछ नहीं कर रही है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

डॉ.लाल रत्नाकर [रत्नाकरलाल@जीमेल.कॉम ] गाजियाबाद - 2011-11-25 01:04:56

 
  मान्यवर,थप्पड़ पवार जी को नहीं देश के एक महत्वपूर्ण केंद्रीय मंत्री को मारा गया है, मिश्र के तहरीर चौक पर क्या हो रहा है. अन्ना के साथियों की शकल तो देखिये उस बूढ़े के ऊपर सवार दिखते हैं, संस्कार ही नहीं रहा. सारे आकंठ भ्रष्टचार में डूबे मंच पर नौटंकी कर रहे हैं. ये देश की बात करते हैं और देश को लूटते हैं. इन्हें लगता है कि इनकी लूट, लूट नहीं होती, पवार साहब पावर में हैं और क्या हैं ? राजनीति क्या होती है किसी से छुपी है !
कहाँ हैं भगत सिंह और चंद्रशेखर आज़ाद और ये मंत्री अपनी निकम्मी औलादें थोप रहे हैं देश पर किसने कहा है इन्हें देश संभालो. ये अपनी नियति को तो संभाल ही नहीं सकते देश संभालने चले हैं. सुभाष चंद्र बोस जैसे लोग जो इनके आकाओं के हाथों नीलाम हो गए. इन्हें अब एक हिम्मती नौजवान ने ऐसे ही थप्पड़ थोड़े ही जड़ा है, परेशां हो गया होगा इनकी गुंडा गरदी से. थप्पड़ तो वास्तव में हर नौजवान का उठेगा देखते जाईये.
अभी इनकी निक्कम्मी औलादों को तो आने दीजिए!
 
   
 

saroj mishra [] bilaspur - 2011-11-24 11:20:20

 
  बंहस तो इस पर होना चाहिए कि शांति के देवदूत हजारे की प्रतिक्रिया क्या थी. उनकी कुटिल मुस्कान और अभद्र विजय भाव के साथ यह कहना-एक ही मारा! इतने बुजुर्ग! इस प्रकार की प्रतिक्रिया! भीतर का कलुष....! अग्निवेश ने ठीक ही कहा था-(पागल हाथी हो रहे है)रामदेव और हजारे की भूमिका किसी गुंडागर्दी से कम है क्या !देश को अराजकता के अंधकार में धकेल कर अपना उल्लू सीधा करना चाहते हैं. 
   
 

saroj mishra [] bilaspur - 2011-11-24 11:09:27

 
  बहस श्रीमान हजारे की प्रतिक्रिया की शब्दावली और (एक ही मारा!) व्यंग्य मुस्कान पर भी होनी चाहिए. अग्निवेश ने शायद सही कहा था यह पागल हाथी हो गए हैं.  
   
 

upendra kumar [uksumanji@gmail.com] - 2011-11-24 10:37:12

 
  क्यों हरविंदर भाई, पहला नंबर तो दिग्विजय सिंह का होना चाहिये था. उसके बाद सोनिया गांधी और राहुल का. बहुत शुक्रिया आपका. आपके जैसे धरती के सच्चे लाल इस देश को चाहिये. बहुत गर्व हो रहा है कि अब इन नेताओं को औकात बताने वाला कोई है. डरना मत आप. इस देश के करोड़ों लोग आपके साथ हैं. देश के गद्दारों से परेशान मत होना. जय मां भारत. 
   
 

SURYA KANT [mrjkantrai@gmail.com] NEW DELHI - 2011-11-24 10:18:41

 
  अब नेताओं को अलर्ट हो जाना चाहिए. अब वो दिन दूर नहीं है जब देश के बड़बोले नेता, देश की जनता के सामने जाने से कतराएंगे. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in