पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

किरण बेदी पर जज का फैसला गलत-केजरीवाल

किरण बेदी पर जज का फैसला गलत-केजरीवाल

नई दिल्ली. 28 नवंबर 2011

किरण बेदी


किरण बेदी के खिलाफ अदालत के निर्देश पर मुकदमा दर्ज किये जाने को टीम अन्ना ने गलत बताया है. टीम अन्ना के अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि मजबूत जन लोकपाल की लड़ाई के कारण टीम के सदस्यों के खिलाफ झूठे आरोप लगाये जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि किरण बेदी के खिलाफ धोखाधड़ी का कोई भी सबूत नहीं है. उन्होंने कहा कि किरण बेदी ने कोई गलत काम नहीं किया है.

गौरतलब है कि दिल्ली की अदालत के आदेश के बाद किरण बेदी के खिलाफ पुलिस ने रविवार को एक मामला दर्ज किया गया है. किरण बेदी के एनजीओ के खिलाफ शिकायत की गई थी कि उनके एनजीओ विजन फाउंडेशन ने एक और एनजीओ वेदांता फाउंडेशन के साथ करार किया कि वे अर्ध सैनिक बल के जवानों के बच्चों को मुफ्त कंप्यूटर की शिक्षा देंगे. लेकिन उन्होंने इसके लिये फीस भी वसूली और मुफ्त में सरकारी जगह भी ली. लेकिन इस काम के लिये किरण बेदी के एनजीओ ने वेदांता फाउंडेशन से पैसे वसूले. इसके अलावा किरण बेदी ने माइक्रोसॉफ्ट से 50 लाख रुपये दान में लिये और माइक्रोसाफ्ट को बताया गया कि वे मुफ्त में शिक्षा दे रहे हैं.

सोमवार को इस मामले में सफाई देते हुये टीम अन्ना के अरविंद केजरीवाल ने कहा कि माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने एक बार फिर मेल भेज कर किरण बेदी के संगठन को और दान देने की बात कही है. ऐसे में यह बात पूरी तरह से बेहुनियाद है कि माइक्रोसाफ्ट के साथ किरण बेदी के एनजीओ ने कोई धोखाधड़ी की है. इसी तरह वेदांता ने भी किरण बेदी के एनजीओ को समर्थन देने की बात कही है.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि किरण बेदी के खिलाफ धोखाधड़ी के कोई सबूत नहीं हैं और किनण बेदी ने कोई गलत काम नहीं किया है. अरविंद केजरीवाल से जब यह कहा गया कि क्या इस तरह अदालत के निर्देशों के खिलाफ बयान देना अदालत की अवमानना का मामला नहीं बनता है, अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ऐसी बहसें होती ही हैं और अगर यह अदालत की अवमानना है तो उन्हें यह स्वीकार है.