पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

गूगल नहीं हटाएगी विवादास्पद सामग्री

गूगल नहीं हटाएगी विवादास्पद सामग्री

नई दिल्ली. 7 दिसंबर 2011

गूगल


दुनिया की सर्वाधिक लोकप्रिय सर्च इंजन और इंटरनेट सुविधा प्रदाता कंपनी गूगल इंडिया ने कहा है कि गूगल कोई भी सामग्री केवल इसलिये अपनी वेब साईट से नहीं हटाएगी क्योंकि वह विवादास्पद है. गूगल का कहना है कि जब तक लोगों के विचार कानून की सीमा में हैं, उनका सम्मान होना चाहिए और उनकी रक्षा होनी चाहिए.

गौरतलब है कि भारत के संचार मंत्री कपिल सिब्बल ने गूगल, माइक्रोसॉफ्ट, फेसबुक और याहू जैसी विभिन्न कंपनियों के प्रतिनिधियों को बुलाकर यह आदेश दिया था कि सोशल नेटवर्किंग साइटों और इसी तरह की अन्य साइटों से ऐसी तमाम सामग्री हटा ली जाये, जिससे किसी का अपमान होता है. सिब्बल का आरोप है कि सोशल नेटवर्किंग साइटों ने इस मसले पर सहयोग करने से मना कर दिया. मंगलवार को उन्होंने अपनी बात को एक बार फिर दोहराते हुए कहा कि आपत्तिजनक सामग्री इंटरनेट से हंटनी चाहिए. उन्होंने यह भी कहा कि किसी को भी धार्मिक भावना को ठेंस पहुंचाने की भी अनुमति किसी को नहीं दी जाएगी.

केंद्र सरकार के इस कदम को लेकर देश भर में बवाल मचा हुआ है और इसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता से जोड़कर देखा जा रहा है. सरकार के इस रव्वैये के बाद भारत में लगभग 10 करोड़ उपयोगकर्ताओं वाले गूगल इंडिया ने कहा है कि हम पूरी कोशिश करते हैं कि कानून का पालन करते हुए जानकारी तक लोगों की ज्यादा से ज्यादा पहुंच हो. इसका मतलब है कि जब कोई चीज़ गैरकानूनी होती है तो हम स्थानीय कानूनों का पालन करते हैं और इसे हटा लेते हैं और जब कंटेंट कानूनी हो और हमारी नीतियों के खिलाफ नहीं हो तो हम इसे सिर्फ इसलिए ही नहीं हटा देंगे क्योंकि ये विवादित है.

गूगल इंडिया ने अपने बयान में कहा है कि हमारा मानना है कि जब तक लोगों के विचार कानून की सीमा में हैं उनका सम्मान होना चाहिए और उनकी रक्षा होनी चाहिए.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Aarya [] Jaipur - 2011-12-07 15:01:44

 
  इससे अच्छे क्या विचार हो सकते है...पूर्ण समर्थन करता हुं.  
   
 

suresh g [sureshgurjar73@gmail.com] indore - 2011-12-07 13:50:36

 
  गूगल की राय सही है. जब तक कानून की सीमा में काम हो रहा हो तो किसी की नोटिस को नहीं हटाया जा सकता. आपको कानून की जानकारी अपडेट रखनी होगी. सूचना के अधिकार के के तहत हम इस सोशस साइट की सहायता से अपने विचार जनता के सामने रख सकते हैं. ताकि समय पर सही बात सामने आये. यही युवा भारत का सपना है. 
   
 

pawankumar pandey [pktcp.com.in@gmail.com] SATNA MP - 2011-12-07 07:47:26

 
  very good news. thanks it is a very nice. 
   
 

Rakesh [rakesh.rgec@yah..co.in] - 2011-12-07 05:48:03

 
  कथित सोशल नेटवर्किंग साईट के ऐसे बयान ट्यूनिशियां, मिस्र आंदोलन में भी मिला करते थे. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in