पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

अन्ना का वार-कमजोर लोकपाल के पीछे राहुल गांधी

अन्ना का वार-कमजोर लोकपाल के पीछे राहुल गांधी

नई दिल्ली. 10 दिसंबर 2011

अन्ना हजारे


जंतर-मंतर पर एक दिन के धरने के लिये दिल्ली पहुंचे समाज सेवी अन्ना हजारे ने कहा है कि अभिषेक मनु सिंघवी की अध्यक्षता वाली लोकपाल विधेयक की स्टैंडिग कमेटी ने एक कमज़ोर लोकपाल बिल संसद में भेजा है और यह देश के साथ धोखा है. इस मामले में राहुल गांधी ने घपला किया है. इससे भ्रष्टाचार घटने के बजाये बढ़ेगा. उन्होंने कहा कि यह नई बोतल में पुराना जहर है.

स्टैंडिंग कमेटी के विधेयक पर बरसते हुये अन्ना हजारे ने कहा कि जन लोकपाल बिल पर स्टैडिंग कमेटी ने विचार किया ही नही. हमारी तरफ़ से दिए गए 34 सुझावों में से उन्होने इक्का-दुक्का ही सुने और केवल एक ही बिंदु पर सहमति जताई, जो है लोकपाल को संवैधानिक दर्जा देने की.

अन्ना हजारे ने कहा कि एक दिन के अनशन के बाद भी अगर सरकार ने मजबूत लोकपाल बिल पास नहीं किया तो आने वाले चुनाव में वे पांच राज्यों में कांग्रेस के खिलाफ प्रचार करेंगे.

अन्ना हजारे ने कहा कि खुद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने हमें चिट्ठी भेजकर वादा किया था कि मजबूत लोकपाल बिल लाया जाएगा. अभिषेक मनु सिंघवी ने उस चिट्ठी को भी कचरे का डब्बा दिखा दिया. यह मामूली बात नहीं है. किसकी हिम्मत है कि प्रधानमंत्री की चिट्ठी को ऐसे अनदेखा कर दे. इसके पीछे निश्चित तौर पर राहुल गांधी का हाथ है. तभी यह हुआ है, वरना ऐसा नहीं हो सकता था.

टीम अन्ना के सदस्य और सामाजिक कार्यकर्ता अरविंद केजरीवाल ने भी सरकार पर खूब निशाना साधा. उन्होंने कहा कि स्टैडिंग कमेटी में तीन महीने तक विचार विमर्श करने के बाद सरकार ने कमज़ोर लोकपाल बिल बनाया है. संसद में भेजे गया वर्तमान लोकपाल बिल का स्टैडिंग कमेटी के 30 में से 17 लोगों ने विरोध किया था. इसके बाद भी ये बिल आगे भेजा गया.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि स्टैडिंग कमेटी मज़बूत लोकपाल बिल बनाने के लिए सहयोग नही कर रही है इसके पीछे सिर्फ राहुल गांधी ही हो सकते है, और कौन है इतना ताकतवर जो ऐसा कर सकता है. उन्होंने कहा कि पहले राजनीतिक दलों को लोकपाल के दायरे में लाया जाये, उसके बाद मीडिया और एनजीओ को इसमें रखने को लेकर विचार किया जाये.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

KANWR PAL SINGH ADVOCATE [ahlwatkpsingh0000@gmail.com] Meerut, Sadarpur - 2011-12-11 13:40:58

 
  People of the nation, be ready again for a movement against corruption, to pass Jan lok Pal bill. 
   
 

APARESH - PUJARI [aparesh42@hotmail.com] SAMBALPUR - 2011-12-10 15:23:33

 
  congress party only understand this type of language, vote or note. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in