पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

अफजल को फांसी दी तो कश्मीर जल उठेगा-गिलानी

अफजल को फांसी दी तो कश्मीर जल उठेगा-गिलानी

दिल्ली. 13 दिसंबर 2011

गिलानी


दस साल पहले भारतीय संसद पर हमले के आरोपी होने का मुकदमा झेल चुके दिल्ली विश्वविद्यालय के अध्यापक सैयद अब्दुल रहमान गिलानी ने यह कह कर चौंका दिया है कि अगर अफजल गुरु को फांसी हुई तो पूरा कश्मीर जल उठेगा. संसद पर 13 दिसंबर, 2001 को किये गये हमले के आरोपी अफजल गुरु की फांसी भले अभी राष्ट्रपति के पास विचारार्थ पड़ी हुई है.

गौरतलब है कि 10 साल पहले संसद पर हुए हमले में अफजल गुरु को फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है. पिछले 5 सालों से अफजल का मामला राष्ट्रपति के पास विचारार्थ पड़ा हुआ है. अब संसद हमले की दसवीं बरसी पर इसी मामले में शामिल होने का आरोप झेल चुके सैयद अब्दुल रहमान गिलानी ने कहा है कि अफजल को फांसी देना भारत सरकार के लिये परेशानी की बड़ी वजह बन सकता है. अफजल गुरु के मामले में कश्मीर के लोग जानते हैं कि उनके साथ नाइंसाफी हुई है. ऐसे में अगर उन्हें फांसी दी जाएगी तो कश्मीर में आग लग जाएगी.

सैयद अब्दुल रहमान गिलानी संसद पर हमले के मामले में 20 महीने तक जेल में रहे थे. हमले के मामले में दो साल बाद 16 दिसंबर 2002 को गिलानी को बरी कर दिया गया था. हालांकि बाद में कुछ चरमपंथी संगठनों ने उनपर समय-समय पर हमले भी बोले. 8 फरवरी 2005 को गिलानी को कुछ लोगों ने जान से मारने की नियत से गोली भी मारी, जिसमें वे बड़ी मुश्किल से बच पाये.

एक साक्षात्कार में गिलानी ने कहा है कि जांच एजेंसियों ने कभी भी इस हमले की जांच को गंभीरता से नहीं लिया. अगर जांच एजेंसियों ने जांच की होती तो मामले का रुख ही दूसरा होता. गिलानी ने आरोप लगाया कि जांच एजेंसियां किसी को भी गिरफ्तार करना चाहती थी, इसलिये उन्होंने मुझे पकड़ा. लेकिन बाद में उन्हें मानना पड़ा कि मैं बेकसूर हूं.