पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >बात >जैव Print | Share This  

पृथ्वी जैसे कई ग्रह मिले

पृथ्वी जैसे कई ग्रह मिले

लंदन. 21 दिसंबर 2011

पृथ्वी जैसा ग्रह


अंतरिक्ष वैज्ञानिकों का दावा है कि सौर मंडल के बाहर की सबसे बड़ी खोज करते हुये उन्होंने पृथ्वी की तरह के कुछ और ग्रहों को तलाश लिया है. कुछ वैज्ञानिकों का कहना है कि इन ग्रहों का तापमान इतना अधिक है कि उन पर रह पाना मुश्किल है.दूसरी ओर कुछ वैज्ञानिकों ने एक संभावना यह भी जताई है कि इन ग्रहों पर भी जीवन हो सकता है. पृथ्वी की तरह नजर आने वाले ये ग्रह सूर्य जैसे एक सितारे का चक्कर काट रहे है.

बीबीसी न्यूज के विज्ञान संवाददाता पल्लब घोष के अनुसार इस खोज की बारीकियां 'नेचर' पत्रिका में छपी है.

अमरीका में कैम्ब्रिज के हार्वर्ड-स्मिथसोनियन सेंटर फॉर एस्ट्रोफिज़िक्स के डॉक्टर फ्रैंकोइस फ्रेसिन ने कहा कि ये खोज पृथ्वी जैसे ग्रहों की खोज में एक नए दौर की शुरुआत है. हालांकि माना जा रहा है कि खोजे गए दोनों ग्रहों का तापमान इतना ज़्यादा है कि उनमें जीवन का पनप पाना मुश्किल है. लेकिन डॉक्टर फ्रेसिन के मुताबिक़ कभी ये ग्रह अपने सूर्य से दूर, इतने ठंडे थे कि उनके सतह पर जीवन के लिए ज़रूरी पानी की मौजूदगी अनुकूल थी.

उन्होने बीबीसी को बताया, ''हमें पता है कि ये दोनों ग्रह अपने सूर्य के क़रीब जा चुके है.'' माना जा रहा है कि इन दोनों में से बड़ा वाला ग्रह पृथ्वी जैसा हो सकता है. इसका आकार पृथ्वी जैसा ही है और हो सकता है कि इसका तापमान भी पृथ्वी जैसा ही रहा हो.

इनमें केप्लर 20 एफ़ नाम के ग्रह का आकार पृथ्वी जितना ही है. खोजे गए दोनों ग्रह पृथ्वी के मुक़ाबले अपने सूर्य से ज़्यादा क़रीब है.

बीबीसी के अनुसार जांचकर्ताओ का कहना है कि इन ग्रहों की सतहें पथरीली है और इनकी बनावट हमारी पृथ्वी जैसी ही है. डॉक्टर फ्रेसिन के मुताबिक़ पृथ्वी की ही तरह इन ग्रहों की भी बनावट एक तिहाई लौह पदार्थ से और बाकी सिलीकेट की परत की हो सकती है. उनका मानना है कि केप्लर 20एफ़ के वातावरण में भाप की मोटी परते जमी हो सकती है. ये खोज काफ़ी महत्वपूर्ण है क्योंकि ये पहला मौक़ा है, जब पता चला है कि सौर मंडल के बाहर भी पृथ्वी जैसे ग्रह हो सकते है.

इससे ये भी पता चलता है कि केप्लर टेलिस्कोप से हज़ारों प्रकाश वर्ष दूर छोटे ग्रहों को भी खोजा जा सकता है. इस टेलिस्कोप ने अब तक 35 ग्रह खोजे है, जिनमें से 20 एफ़ को छोड़कर बाक़ी सभी ग्रह पृथ्वी से बड़े हैं.

डॉक्टर फ्रैंकोइस फ्रेसिन और उनके जांच दल की अभी तक की सबसे बड़ी खोज पृथ्वी से ढ़ाई गुना ज़्यादा बड़े एक ग्रह की है, जो ‘गोल्डीलॉक्स ज़ोन’ में पाया जाता है. ये वो जगह होती है जहां न तो ज़्यादा ठंडी और न ही गर्मी पड़ती है. हालांकि डॉक्टर फ्रेसिन का मानना है कि ये दोनो ग्रह ज्यादा बड़ी खोज है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in