पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

लोकसभा में लोकपाल पारित

लोकसभा में लोकपाल पारित

नई दिल्ली. 28 दिसंबर 2011 बीबीसी

संसद में लोकपाल पारित


संसद में लोकपाल पर दिन भर चली बहस के बाद आखिरकार संशोधनों सहित लोकपाल विधेयक लोकसभा में पारित हो गया है. लोकपाल विधेयक ध्वनिमत से लोकसभा में पारित हुआ.

लोकपाल विधेयक पारित होने के बाद लोकपाल को संवैधानिक दर्जा देने के लिए सदन में संवैधानिक संशोधन बिल पर वोटिंग कराई गई. पहली वोटिंग में यह विधेयक पारित हो गया, लेकिन इसके बाद विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने संवैधानिक संशोधन बिल पर बहुमत का सवाल उठाते हुए ज़रूरी मतों की संख्या के कम होने की बात कही. आखिरकार संवैधानिक संशोधन बिल लोकसभा में पारित नहीं हो सका.

लोकपाल विधेयक के बाद लोकसभा में संशोधनों सहित 'व्हिसलब्लोयर विधेयक' पर मतदान कराया गया और यह विधेयक भी लोकसभा में पारित हो गया. इसके बाद लोकसभा की कार्रवाई स्थगित कर दी गई.

सदन में बहस के दौरान विपक्षी दलों सहित वामपंथी दलों की ओर से सरकारी लोकपाल बिल के मसौदे में कई संशोधन सुझाए गए. इन संशोधनों के तहत राज्यों के पास अब लोकपाल और लोकायुक्त विधेयक 2011 लागू करने संबंधी स्वतंत्रता होगी. साथ ही सैन्यबलों और कोस्ट गार्ड को विधेयक के दायरे से बाहर रखा गया है.

हालांकि मतदान के बाद ज़्यादातर संशोधन खारिज हो गए. सुझाए गए संशोधनों के खारिज होने के विरोध में लोकपाल बिल पारित होने के बाद वामपंथी दलों, बीजू जनता दल और एआईएडीएमके ने सदन से वॉक-आउट कर दिया.

इस बीच मज़बूत लोकपाल की मांग को लेकर अनशन पर बैठे अन्ना हज़ारे का स्वाथ्य गिरता जा रहा है. पिछले कुछ दिनों से उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों के मुताबिक खाली पेट होने के कारण दवाएं असर नहीं कर रही हैं और अन्ना को जल्द से जल्द कुछ खिलाए जाने की ज़रूरत है.

टीम अन्ना सहित महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज च्वहाण लगातार अन्ना हज़ारे से अनशन तोड़ने की अपील कर रहे हैं. इससे पहले लोकपाल विधेयक पर बहस के दौरान भ्रष्टाचार को लेकर सरकार की नियत पर उठ रहे सवालों का जवाब देते हुए वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने कहा कि सरकार सुझावों के प्रति असंवेदनशील नहीं है.

उन्होंने कहा, ''सरकार सदन के बाहर से आने वाली माँगों के लिए भी असंवेदनशील नहीं है, हम उस पर विचार कर रहे हैं और जितना हो सकेगा हम उसे शामिल भी करेंगे. मगर हम इस प्रणाली को नष्ट नहीं होने देंगे. विधेयक इस संसद के पटल पर होना चाहिए न कि धरनों के ज़रिए मंच पर या सड़कों पर. कितना भी विरोध प्रदर्शन हो जब तक विधायिका संतुष्ट नहीं होगी वो विधेयक नहीं बनेगा. ये आपको तय करना होगा कि आपको क्या करना है.''

सरकार के लिए अब अगली चुनौती लोकपाल विधेयक को राज्यसभा में पारित कराना है. राज्यसभा में यूपीए के पास ज़रूरी बहुमत नहीं है और राज्यसभा में बिल पारित कराने के लिए सरकार को हर कीमत पर अन्य दलों का समर्थन चाहिए होगा.

राज्यसभा से इस विधेयक के पारित होने के बाद इसे कानून का रूप दिए जाने के लिए राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा. राष्ट्रपति के अनुमोदन के बाद ही यह विधेयक कानून का रूप ले सकेगा.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in