पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

अन्ना का अनशन खत्म, अब जेल भरो अभियान

अन्ना का अनशन खत्म, अब जेल भरो अभियान

नई दिल्ली. 28 दिसंबर 2011

अन्ना हजारे


सरकारी लोकपाल बिल के विरोध में मुंबई में अनशन पर बैठे अन्ना हजारे ने दूसरे ही दिन अपना अनशन खत्म करने का निर्णय ले लिया. अन्ना हजारे की तबीयत पहले से ही खराब चल रही थी. बुधवार को डाक्टरों ने उनके बुखार के बाद खाली पेट रहने के कारण किडनी के फेल होने की आंशका जताई थी.

अन्ना हजारे ने अपना अनशन खत्म करने से पहले सभा को संबोधित करते हुये कहा कि सभी लोग अभी जेल भरो की तैयारी में जुट जाएं.अनशन खत्म करने से पहले अन्ना हजारे ने कहा कि महंगाई और भ्रष्टाचार से परिवार चलाना मुश्किल हो गया है. आज दो दिन से संसद में क्या हो रहा है, आप देख रहे हैं. पार्टियां बहुमत बनाकर हुकुमशाही चला रही हैं.

उन्होंने कहा कि हमें लंबी लड़ाई लड़नी होगी. ये देश दिखा चुका है कि जनता की क्या शक्ति है. क्रांति कई देशों में हुई है. लेकिन वही रक्तरंजित थी. लेकिन हमारे यहां रक्तविहीन क्रांति हो रही है. अन्ना हजारे ने कहा कि वे पांच राज्यों का दौरा करेंगे. उन्होंने कहा कि आम चुनाव के समय पूरे देश का दौरा करूंगा. इस देश को वोटिंग के जरिए ही संवारा जा सकता है. अच्छे लोगों को चुनकर भेजें. भ्रष्टाचारियों को वोट देने से देश आगे नहीं बढ़ेगा.

गौरतलब है कि मज़बूत लोकपाल की मांग को लेकर अनशन पर बैठे अन्ना हज़ारे का स्वास्थ्य गिरता जा रहा था. पिछले कुछ दिनों से उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों के मुताबिक खाली पेट होने के कारण दवाएं असर नहीं कर रही हैं और अन्ना को जल्द से जल्द कुछ खिलाए जाने की ज़रूरत बताई गई थी.

टीम अन्ना सहित महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज च्वहाण लगातार अन्ना हज़ारे से अनशन तोड़ने की अपील कर रहे थे. इसके अलावा श्री श्री रविशंकर ने भी उनसे अपना अनशन तोड़ने की मांग की थी.
 

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Narendra Sharma [narendra.sharma133@gmail.com] Gurgaon - 2011-12-28 11:37:27

 
  Whole scenario and speeches of majority of political leaders have let down People of India against Corruption. We had lot expectations from BJP leadership who have also proved betrayer. Political class do not ready to give up their supremacy. Unitedly they made us fool. They constituted Joint Drafting Committee, They welcomed Swami Ramdev, They communicated a false sense of house and wrote a false letter to a saint. Public began to think, they would ready to reform themselves but faith turned into fake. Now it is the National and moral obligation of common people of India to offer similar treatment with them. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in