पहला पन्ना >राजनीति >समाज Print | Share This  

नस्ल भेद के कारण हुई थी अनुज बिदवे की हत्या

नस्ल भेद के कारण हुई थी अनुज बिदवे की हत्या

ग्रेटर मैंचेस्टर. 30 दिसंबर 2011

अनुज बिदवे


भारतीय छात्र अनुज बिदवे की हत्या नस्लीय भेद के कारण हुई थी. ब्रिटेन पुलिस ने कहा है कि इस मामले में गिरफ्तार सभी पांच लोगों से शुरुआती पूछताछ में पता चलता है कि उन्होंने अनुज बिदवे को एक ‘काला आदमी’ होने के कारण मार डाला.

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के पुणे निवासी 23 साल के अनुज बिदवे की सोमवार की शाम उस समय हत्या कर दी गई थी, जब वे सड़क पर अपने दो भारतीय मित्रों के साथ सॉल्फर्ड शहर के ओर्डशाल लेन में घूम रहे थे. वे इंग्लैंड में ही लैंकेस्टर विश्वविद्यालय में माइक्रो-इलेक्ट्रॉनिक्स में पोस्टग्रेजुयेशन कर रहे थे और क्रिसमस की शाम घूमने के लिये निकले थे.

अनुज बिदवे के साथ घूम रहे मित्रों के अनुसार सड़क पर घूमते समय दो श्वेत लोगों ने अचानक अनुज को रोक कर कुछ कहा और इससे पहले की कोई कुछ समझ पाता, उन्होंने उसे काफी पास से गोली मार दी. अनुज की घटनास्थल पर ही मौत हो गई.पुलिस के अनुसार हत्यारे की उम्र 20 वर्ष के आसपास होगी.

अनुज की हत्या के मामले में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया था. इन पांचों लोगों से पूछताछ के बाद मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारी केविन मलीगन ने कहा कि हमने अभी तक हत्या का ठीक-ठीक उद्देश्य स्थापित नहीं किया है और इसका नस्ली पहलू होने का कोई पुख़्ता सबूत नहीं है. लेकिन समुदाय के बीच ये सोच बढ़ रही है कि ये नफ़रत से प्रेरित हत्या थी इसलिए हम इसे नस्ली हिंसा का मामला मान रहे हैं.

इधर अनुज बिदवे का शव अभी तक भारत नहीं भेजा जा सका है. भारतीय उच्चायोग ने कहा है कि वो जल्दी से जल्दी अनुज का शव भारत भिजवाने की व्यवस्था कर रहे हैं.