पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >उ.प्र. Print | Share This  

मायावती मंत्रिमंडल से 6 दिन में 11 की छुट्टी

मायावती मंत्रिमंडल से 6 दिन में 11 की छुट्टी

लखनऊ. 31 दिसंबर 2011

मायावती


उत्तरप्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने अपने मंत्रिमंडल से पिछले 6 दिनों में 11 मंत्रियों की छुट्टी कर दी है. मुख्यमंत्री मायावती द्वारा अपने मंत्रियों को बर्खास्त करने का सिलसिला जारी है और चुनाव की घोषणा के बाद से एक बार उन्होंने ऑपरेशन क्लिन चलाया है. उन्होंने शुक्रवार को अपनी सरकार से चार मंत्रियों की छुट्टी कर दी. इसके अलावा एक मंत्री से इस्तीफा ले लिया. हालांकि जिन मंत्रियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप है, मायावती ने उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है.

शुक्रवार को मायावती ने जिन मंत्रियों को हटाया, उनमें अल्पसंख्यक कल्याण एवं हज राज्य मंत्री अनीस अहमद खान, वन मंत्री फतेह बहादुर सिंह, प्राविधिक शिक्षा राज्य मंत्री सदल प्रसाद और मुस्लिम वक्फ राज्य मंत्री शहजिल इस्लाम अंसारी शामिल हैं. एक अन्य मंत्री ददन प्रसाद ने इस्तीफे की घोषणा की है. मायावती ने इन पांचों लोगों को विधानसभा चुनाव लड़ने के लिये टिकट नहीं देने की भी घोषणा की है.

इससे पहले मायावती 25 दिसंबर को उच्च शिक्षा मंत्री राकेशधर त्रिपाठी, कृषि शिक्षा मंत्री राजपाल त्यागी, पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री अवधेश वर्मा और होमगार्ड मंत्री हरिओम को बर्ख़ास्त कर चुकी हैं. 28 दिसंबर को भी मायावती ने अतिरिक्त ऊर्जा राज्य मंत्री अकबर हुसैन और विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री यशपाल सिंह को उनके पद से हटाया था. इन सभी 11 मंत्रियों को हटाने के पीछे सबसे बड़ा कारण यह माना जा रहा है कि ये सभी लोग दूसरे राजनीतिक दलों से सांठगांठ कर टिकट पाने की कोशिश कर रहे थे.

हालांकि मायावती ने भ्रष्टाचार के आरोप में भी अपने कुछ मंत्रियों को हटाया है, जिनमें स्वास्थ्य मंत्री अनंत कुमार मिश्र और परिवार कल्याण मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा शामिल हैं. लेकिन कई मंत्री अभी भी मायावती की नाक के बाल बने हुये हैं, जिनपर भ्रष्टाचार के आरोप हैं या जिन्हें पद से हटाने के लिये लोकायुक्त ने भी अनुशंसा की है. ऐसे नामों में चन्द्र देव राम, राजेश त्रिपाठी, अवध पाल सिंह यादव, रंग नाथ मिश्र, बादशाह सिंह और रतन लाल अहिरवार जैसे लोग शामिल हैं.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in