पहला पन्ना >राजनीति >महाराष्ट्र Print | Share This  

एनसीपी और कांग्रेस के रिश्ते में दरार

एनसीपी और कांग्रेस के रिश्ते में दरार

मुंबई. 9 जनवरी 2012

शरद पवार


कांग्रेस के दिन खराब चल रहे हैं, यह बात पहले बंगाल में और अब महाराष्ट्र में उसकी सहयोगी पार्टियों के साथ चल रहे तकरार ने साबित कर दिया है. बंगाल में ममता बनर्जी की गठबंधन तोड़ने की धमकी को सुलझाने में लगी कांग्रेस को अब महाराष्ट्र एनसीपी ने मुंबई में होने वाले बीएमसी चुनाव में सीटों के बंटवारे को लेकर करारा झटका दिया है. एनसीपी नेता शरद पवार ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी हमे हल्के में न ले.

सीटों के बंटवारे को लेकर एनसीपी ने साफ कर दिया है कि 65 सीटों से कम पर बात नहीं होगी, भले इसके लिये कांग्रेस और एनसीपी का गठबंधन रहे या जाये. दूसरी ओर कांग्रेस ने कहा है कि वह एनसीपी को लगभग आधी केवल 34 सीटें ही दे सकती है.

गौरतलब है कि दो निदन पहले तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा था कि अगर कांग्रेस को हमारे साथ का गठबंधन तोड़ कर लेफ्ट पार्टियों के साथ जाना है तो वो बेशक चली जाये. उन्होंने साफ-साफ तौर पर कांग्रेस पार्टी और तृणमूल कांग्रेस गठबंधन को तोड़ने की धमकी देते हुये कहा था कि कांग्रेस पार्टी उनकी पार्टी को लेकर झूठी अफवाहें फैला रही है.

ममता बनर्जी की इस घोषणा के बाद से ही पूरा कांग्रेसी अमला डैमेज कंट्रोल में जुटा रहा. कहा जाता रहा कि ममता बनर्जी के साथ जो भी मतभेद हैं, उन्हें सुलझा लिया जाएगा.

अब एनसीपी ने महाराष्ट्र में कांग्रेस को साफ तौर पर कहा है कि निकाय चुनाव में एनसीपी की उपेक्षा बर्दाश्त नहीं की जाएगी. शरद पवार ने कांग्रेस को पहले ही चेताया था कि कांग्रेस हमारी पार्टी को हल्के में न ले. इधर एनसीपी नेता तारिक अनवर ने भी दो टूक लहजे में कहा कि हम कांग्रेस की दया पर निर्भर नहीं है और अगर कांग्रेस हमारे हिसाब हमें सीटें नहीं देती है तो हम अकेले चुनाव लड़ेंगे.