पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >राजस्थान Print | Share This  

मोदी के भाषण से नाराज गहलोत ने मंच छोड़ा

मोदी के भाषण से नाराज गहलोत ने मंच छोड़ा

जयपुर. 9 जनवरी 2012

नरेंद्र मोदी


गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रवासी भारतीय दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर ऐसा हमला बोला कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अंततः मंच छोड़ कर चले गये. प्रवासियों ने अशोक गहलोत को बुलाने की मांग की लेकिन अशोक गहलोत लौट कर नहीं आये.

प्रवासी भारतीय दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में जब राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार की तारीफ की तो गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी असहज हो गये. अशोक गहलोत का कहना था कि देश में अलग-अलग राज्यों का विकास केंद्र सरकार के कारण ही संभव हो पाया है.

इसके बाद जब नरेंद्र मोदी ने केंद्र सरकार की खिंचाई शुरु की तो केंद्र सरकार के मंत्री और कांग्रेसी नेताओं को यह नागवार गुजरने लगा. नरेंद्र मोदी ने कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री का आशीर्वाद मिला हुआ है, पर हम उतने भाग्यशाली नहीं हैं. हमें कुछ नहीं मिला है. हमें सब कुछ खुद के बलबूते पर करना पड़ा है.

मोदी ने कहा कि मैंने पिछले साल प्रधानमंत्री को एक लेटर लिखा था. आम तौर पर एक मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री को क्या लिखता है? वह कोष की मांग करता है, पर मैंने कोष की मांग करते हुए कभी लेटर नहीं लिखा. इस लेटर में प्रधानमंत्री से गुजरात के लिए एक सैटलाइट मांगा गया था, पर वह इस बात को लेकर असमंजस में थे कि क्या किया जाए. प्रदेश को एक भारतीय अंतरिक्ष संचार उपग्रह पर एक पूर्णकालिक ट्रांसपोंडर मिला, जिससे प्रदेश एक समय में 12 सेक्टरों में दूरस्थ शिक्षा दे सकता था. यह प्रदेश में सुशासन, दूरस्थ शिक्षा कार्यक्रम और टेलिमेडिसिन के क्षेत्र में सुधार के लिए था.

नरेंद्र मोदी ने पीएम पर हमला जारी रखते हुये कहा कि मैंने एक बार प्रधानमंत्री को सुझाव दिया था कि अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे राजस्थान और गुजरात के रेगिस्तान क्षेत्रों में सौर ऊर्जा यूनिट लगाई जाएं, जिससे सीमा की सुरक्षा और सौर ऊर्जा उत्पादन का दोहरा उद्देश्य पूरा हो सके. आप जानते हैं, उसका क्या हुआ.

नरेंद्र मोदी के भाषण से परेशान राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत परेशान हो गये और अंत में भाषण के बीच से ही मंच से उठ कर चले गये.

केंद्रीय मंत्री वायलार रवि पूरे आयोजन से इतना बौखलाए कि एक अप्रवासी भारतीय द्वारा भाषण में केंद्र सरकार के खिलाफ टिप्पणी पर वे बीच में ही खड़े हो गये. उन्होंने उस अप्रवासी भारतीय को रोकते हुये कहा कि व्यक्तिगत मुद्दों पर बात न करें. रवि के साथ बहुत देर तक बहसबाजी होती रही.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

daulat [] pali - 2012-01-09 15:53:40

 
  मंत्री जी रवि का अप्रवासी भारतीय को रोकना गलत था. क्योंकि इससे पहले अशोक गहलोत भी तो प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की व्यक्तिगत प्रशंसा ही तो कर रहे थे. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in