पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >आतंकवाद Print | Share This  

गुरदीप हेयर की हत्या?

गुरदीप हेयर की हत्या?

लंदन. 11 जनवरी 2012

गुरदीप हेयर


भारतीय मूल के गुरदीप हेयर का शव मिलने के बाद अब सवाल उठ रहे हैं कि क्या गुरदीप हेयर की हत्या की गई थी? पुलिस अभी तक ऐसा एक भी सबूत बरामद नहीं कर पाई है, जिससे लगे कि यह एक सामान्य मौत थी और पुलिस के लिये सबसे बड़ा सवाल तो यही है कि गुरदीप का शव नदी में कैसे पहुंचा. गुरदीप हेयर का शव यॉर्क स्ट्रीट के निकट मेडलॉक नदी से बरामद किया गया है. गुरदीप हेयर ब्रिटेन के मेनचेस्टर से लापता हो गये थे. पिछले एक पखवाड़े में ब्रिटेन में भारतीय मूल के नौजवान की यह दूसरी मौत है. इससे पहले मेनचेस्टर में ही अनुज बिदवे की नस्लभेदी हत्यारे ने गोली मार कर हत्या कर दी थी.

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के पुणे निवासी 23 साल के अनुज बिदवे की 27 दिसंबर की शाम उस समय हत्या कर दी गई थी, जब वे सड़क पर अपने दो भारतीय मित्रों के साथ सॉल्फर्ड शहर के ओर्डशाल लेन में घूम रहे थे. वे इंग्लैंड में ही लैंकेस्टर विश्वविद्यालय में माइक्रो-इलेक्ट्रॉनिक्स में पोस्टग्रेजुयेशन कर रहे थे और क्रिसमस की शाम घूमने के लिये निकले थे. अनुज बिदवे के साथ घूम रहे मित्रों के अनुसार सड़क पर घूमते समय दो श्वेत लोगों ने अचानक अनुज को रोक कर कुछ कहा और इससे पहले की कोई कुछ समझ पाता, उन्होंने उसे काफी पास से गोली मार दी. अनुज की घटनास्थल पर ही मौत हो गई.

अनुज बिदवे की हत्या के बाद 20 साल के गुरदीप हेयर का शव कल यॉर्क स्ट्रीट के निकट मेडलॉक नदी से बरामद किया गया. पुलिस के अनुसार पश्चिमी ब्रॉमविच निवासी गुरदीप नये साल की छुट्टियों में मेनचेस्टर गया था. जहां 31 दिसंबर की रात दो बजे उसे एक नाइट क्लब से एक टैक्सी में ले जाया गया. हालांकि कुछ ही मिनटों बाद वह टैक्सी वापस आ गयी लेकिन गुरदीप उसमें नहीं था.

ब्रिटेन की पुलिस का कहना है कि शव के पोस्टमार्टम के बाद ही परिस्थितियां साफ होंगी. हालांकि पुलिस ने इस बात से इंकार नहीं किया है कि गुरदीप की हत्या की गई होगी. लेकिन पुलिस किसी भी निष्कर्ष पर बिना जांच के नहीं पहुंचना चाहती.

इधर ब्रिटेन में नस्लभेद के एक अन्य मामले के दौरान ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने यह स्वीकार किया है कि इंग्लैंड में नस्लभेद अब भी बरकरार है. उन्होंने एक अखबार को साक्षात्कार में कहा कि हमारे देश में नस्लीय समस्या कम है,लेकिन इसके बाद भी नस्लीय हमारे देश में एक समस्या है. हमारे देश में विभिन्न समुदायों के लोगों को प्रतिकूल परिस्थिति का सामना करना पड़ता है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in