पहला पन्ना >राजनीति >पाकिस्तान Print | Share This  

जान का खतरा तो भी पाकिस्तान लौटेंगे मुशर्रफ

जान का खतरा तो भी पाकिस्तान लौटेंगे मुशर्रफ

दुबई. 14 जनवरी 2012

परवेज मुशर्रफ


पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ ने कहा है कि पाकिस्तान को आज की तारीख में उनकी सबसे अधिक जरुरत है और अगर इसके लिये उनकी जान भी चली जाये तो भी वे पाकिस्तान जा कर रहेंगे. उन्होंने कहा कि देश की जनता को एक सच्चे विकल्प की जरुरत है और वे मानते हैं कि देश की जनता उनकी ओर देख रही है.

गौरतलब है कि पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को पाकिस्तान की एक आतंकरोधी अदालत ने भगौड़ा घोषित कर रखा है. दिसंबर 2007 में हुई पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की हत्या के मामले में रालवपिंडी की अदालत ने उन्हें अदालत में तलब किया था लेकिन वे अदालत में नहीं आये. इसके बाद रावलपिंडी की इस अदालत ने उन्हें फरार घोषित कर दिया. पंजाब सरकार ने पहले ही कह रखा है कि अगर मुशर्रफ ने मुल्क में कदम रखा तो उन्हें तत्काल गिरफ्तार कर लिया जायेगा.

जनरल परवेज मुशर्रफ ने 1998 में नवाज शरीफ का तख्ता पलट कर पाकिस्तान की सत्ता पर कब्जा किया था और लगातार उन्होंने 2008 तक पाकिस्तान पर शासन किया. इससे पहले 2001 में मुशर्रफ ने खुद को पाकिस्तान का राष्ट्रपति घोषित कर दिया था. लेकिन 2008 में देश में बनते राजनीतिक दबाव के कारण वे पाकिस्तान से खुद ही निर्वासित हो कर लंदन और दुबई में रह रहे हैं.

अब एक बार फिर पाकिस्तान में चल रही राजनीतिक उठापटक के बीच उन्होंने कहा है कि वे इस महीने के अंत तक पाकिस्तान लौटेंगे क्योंकि देश को उनकी जरुरत है. एक टीवी चैनल से बातचीत करते हुये जनरल परवेज मुशर्रफ ने कहा कि अगर उनकी जान को खतरा हो सकता है तो भी वे यह खतरा उठाने के लिये तैयार हैं. उन्होंने कहा कि मैंने लौटने का फैसला ले लिया है और मुझे खतरा उठाना ही होगा.

उन्होंने कहा कि मुल्क आज विकल्प की तलाश कर रहा है. पाकिस्तान एक गंभीर सामाजिक-आर्थिक और प्रशासनिक परेशानियों से लड़ रहा है और ऐसे वक्त में देश को उनकी जरुरत है. उन्होंने साफ किया कि वे मुल्क में लौटकर राजनीति में सक्रिय होंगे.

हालांकि राजनीतिक गलियारों में माना जा रहा है कि इमरान खान की तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी ने हाल ही में परवेज मुशर्रफ की पार्टी अल मुस्लिम लीग के साथ गठबंधन की बात कही है. ऐसे में मुशर्रफ को इस बात की पूरी उम्मीद है कि पुराने अनुभवों के सहारे वे पाकिस्तान में एक बार फिर सत्ता पा सकते हैं.