पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > राजनीति > अमरीका Print | Send to Friend 

अलकायदा नहीं हुआ कमजोर

अलकायदा नहीं हुआ कमज़ोर

नई दिल्ली. 29 सितंबर 2008


बीबीसी वर्ल्ड सर्विस के सर्वेक्षण के मुताबिक चरमपंथी संगठन अल क़ायदा के ख़िलाफ़ अमरीका की अगुआई में जारी अभियान सफल साबित नहीं हो पाया है.

 

सर्वेक्षण में शामिल 29 फ़ीसदी लोगों का कहना था कि अमरीकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने वर्ष 2001 में जो 'आतंकवाद के ख़िलाफ़ लड़ाई' शुरु की थी उसका इस्लामी चरमपंथी नेटवर्क पर कोई असर नहीं पड़ा है. तीस फ़ीसदी लोगों का मानना है कि अमरीकी नीतियों ने अल क़ायदा को और मजबूती दी है.

बीबीसी की वेबसाइट पर प्रकाशित सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार सर्वेक्षण के निष्कर्ष 23 देशों के 24 हज़ार लोगों से हुई बातचीत के आधार पर निकाले गए हैं. मिस्र और पाकिस्तान को छोड़ कर बाकी सभी देशों के लोगों में अल क़ायदा के प्रति नकारात्मक रुख़ दिखा.

ये पूछे जाने पर कि अल क़ायदा और अमरीका के बीच संघर्ष में कौन जीत रहा है, 49 फ़ीसदी लोगों ने कहा कि इसमें किसी की जीत नहीं हो रही है.दूसरी ओर 22 फ़ीसदी लोगों का मानना है कि इस लड़ाई में अमरीका की पकड़ मज़बूत है, वहीं दस फ़ीसदी लोगों ने कहा कि जीत अल क़ायदा की हो रही है.

सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

kshitij (rk_kshitij15@rediffmail.com) Rajkot

 
 any body wins, it may be al - kayada or us government, but it is highly affecting to the local public, they may be from any of the countries. so they must have to keep in mind that it should not be affecting to the local public.

otherwise in future i dont know what hapen..

see once wednesday once, this kinds of day will definetly come when public will come in the real picture
 
   

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in