पहला पन्ना >राजनीति >गुजरात Print | Share This  

नरेंद्र मोदी को विवेकानंद बनाने की कोशिश

नरेंद्र मोदी को विवेकानंद बनाने की कोशिश

अहमदाबाद. 17 जनवरी 2012

नरेंद्र मोदी


गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को स्वामी विवेकानंद की तरह पेश करने की कांग्रेस समेत विपक्षी पार्टियों ने कड़ी निंदा की है. कांग्रेस ने कहा है कि भाजपा के सांप्रदायिक चेहरे के तौर पर पहचाने जाने वाले नरेंद्र मोदी की स्वामी विवेकानंद से तुलना करना विवेकानंद जैसे महापुरुष का अपमान है.

गौरतलब है कि भाजपा नेता और गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा में एक गुजराती अखबार में विज्ञापन छापा गया है, जिसमें एक तरफ नरेंद्र मोदी की और दूसरी तरफ स्वामी विवेकानंद की तस्वीर लगी है. यह विज्ञापन एक जिले के भाजपा अध्यक्ष ने छपवाया है.

पाठकों को यह ज्ञात होगा कि स्वामी विवेकानंद के बचपन का नाम नरेंद्रनाथ दत्ता था. इस विज्ञापन में लिखा गया है- यह भगवा रंग की नदी है, जिसमें नरेंद्र यानी विवेकानंद एक किनारे और दूसरे किनारे पर नरेंद्र यानी नरेंद्र मोदी खड़े हैं. आइए, हम सब राष्ट्रवाद और राष्ट्रनिर्माण के दो किनारों के बीच बहती धारा में डूब जाएं. विज्ञापन में कहा गया है कि एक धार्मिक शख्सियत नरेंद्र ने आध्यात्मिकता का प्रकाश चारों ओर फैलाया है, जबकि राजनीतिक नरेंद्र ने आम आदमी को केंद्र में रखकर विकास का प्रकाश चारों ओर फैलाया है.