पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

25 फीसदी बढ़ सकता है रेल किराया

25 फीसदी बढ़ सकता है रेल किराया

नई दिल्ली. 23 जनवरी 2012

सैम पित्रोदा


रेलवे ने अगर सैम पित्रोदा समिति की सिफारिश मान ली तो आने वाले दिनों में रेल किराये में 25 फीसदी की बढ़ोत्तरी हो सकती है. रेल आधुनिकीकरण के लिये बनी सैम पित्रोदा की अध्यक्षता वाली एक हाईपावर समिति ने योजना आयोग को यह सलाह दी है.

पिछले साल सितंबर में बनी इस समिति के अध्यक्ष पूरी दुनिया के वाई-फाई से जुड़े होने की समझ रखने वाले सैम पित्रोदा हैं और समिति में एचडीएफसी के दीपक पारिख, फीडबैक वेंचर के विनायक चटर्जी और आईडीएफसी के राजीव लाल शामिल हैं. समिति के अनुसार अगर रेल किराया 25 फीसदी बढ़ा दिया जाये तो भारत की आम जनता से रेलवे 60 हजार करोड़ रुपये वसूल सकती है.

आम तौर पर रेल बजट 26 फरवरी को पेश किया जाता है. लेकिन इस बार 9 मार्च तक चुनाव आचार संहिता लागू है. गोवा में 3 मार्च को अंतिम चरण का चुनाव है. इस लिहाज से अनुमान लगाया जा रहा है कि रेल और आम बजट की तारीख आगे बढ़ सकती है.

लेकिन यह देर से आने वाला रेल बजट लोगों के बजट को पटरी से उतार सकता है. रेल आधुनिकीकरण के लिये बनी हाईपावर कमेटी का कहना है कि रेल सुविधाओं को बेहतर करना है तो आने वाले पांच वर्षों में 913000 करोड़ रुपये की जरुरत होगी. अगर रेल किराया 25 फीसदी बढ़ा दी जाये तो यह काम किया जा सकता है. रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी का भी कहना है कि पिछले 8 सालों से रेल किराया नहीं बढ़ाया गया है. अगर यात्री बेहतर सुविधाओं के लिये खर्च करने को तैयार हैं तो हमें किराया बढ़ाने में संकोच नहीं करना चाहिये.