पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

कोलावरी डी के धनुष को मिली हिंदी की पहली फिल्म

कोलावरी डी के धनुष को मिली हिंदी की पहली फिल्म

मुंबई. 24 जनवरी 2012

धनुष


टेक इट इजी ऊर्वशी और डोंट वरी मुस्तफा की तर्ज फर कोलावरी डी गाने और उसे शातिराना तरीके से लोकप्रिय करने के लिये बाज़ार के सारे लटके-झटके इस्तेमाल करने वाले दक्षिण भारत के अभिनेता धनुष की मेहनत सफल होती नजर आ रही है. आनंद एल. राय के निर्देशन वाली रांझना नामक पहली हिंदी फिल्म धनुष को मिली है और धनुष इसे लेकर बेहद उत्साहित हैं.

फिल्मों में कुछ भी कर गुजरने वाले रजनीकांत के दामाद धनुष का कहना है कि यह बहुत बड़ी बात है कि मुझे अपने बॉलीवुड करियर में इस तरह की शुरुआत मिली है. आनंद की फिल्म की कहानी नियमित सिनेमा से अलग है. कहा जा रहा है कि आनंद की यह फिल्म एक भावुक प्रेम कहानी है और इसके लिये वे कमजोर और पिलपिले से किसी हीरो की तलाश में थे और धनुष के रुप में उन्हें एक सीधा-साधा दिखने वाला हीरो मिल गया.

वैसे धनुष अपनी हिंदी फिल्म को लेकर थोड़े डरे हुये भी हैं. हालांकि हिंदी फिल्मों के नाम पर भी कई बार बेहद बकवास फिल्में भी चल जाती हैं लेकिन दक्षिण भारत में रजनीकांत और उनके दामाद को लेकर जिस तरह का क्रेज है, कमसे कम हिंदी में उसकी तो कोई गुंजाइश नहीं है. ऐसे में अगर रांझना में कुछ गड़बड़ी हुई तो धनुष की शुरुवात भी गड़बड़ा सकती है.

वैसे भी कोलावरी डी के हिंदी वर्सन ‘डिस्टेंस पर मेरे चांद चांद, मर गई मेरी नींद..’ को लेकर हिंदी इलाके में जो उदासीनता नजर आई है, उससे धनुष थोड़े डरे हुये हैं.