पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >कला >दिल्ली Print | Share This  

अग्निपथ क्यों बार-बार

अग्निपथ क्यों बार-बार

मुंबई. 26 जनवरी 2012

अग्निपथ


1990 में यश जौहर द्वारा अमिताभ बच्चन को लेकर बनाई गई अग्निपथ भले फ्लाप हो गई हो, यश जौहर के बेटे करण जौहर ने 22 साल बाद फिर से इस फ्लाप फिल्म का रीमेक बनाने का दुस्साहस किया. नये अग्निपथ फिल्म में रितिक रोशन, प्रियंका चोपड़ा, संजय दत्त ऋषि कपूर, आरीष भिवंडीवाला, ओम पुरी, चेतन पंडित, कनिका तिवारी जैसे कलाकार हैं और कहानी वही बदले वाली है. दूसरे मसाले तो हैं ही और हां, अविश्वसनीय ड्रामे की छौंक बघार भी है. पहले दिन जबरदस्त प्रचार और अच्छी खासी स्टारकास्ट के चलते फिल्म को अच्छी संख्या में दर्शक मिले हैं और उम्मीद की जा रही है कि फिल्म अच्छी कमाई कर जाएगी.

वैसे सुपर हिट फिल्मों के रीमेक तो कई बने, लेकिन ऐसी फ्लाप फिल्म का रीमेक बनने के मामले कम ही सामने आते हैं. ऐसे में एक सवाल फिर से उठने लगा है कि आखिर भारतीय फिल्म इंडस्ट्री के पास क्या कहानियों की इतनी कमी हो गई है कि वह फ्लाप फिल्मों के भी रीमेक बनाने से नहीं चुक रहा है. देवदास जैसी फिल्मों के प्रयोग ने भी शायद करण जौहर जैसे फिल्मकारों को रीमेक के लिये उत्साहित कर रहा है.

वैसे करण जौहर भले एक फ्लाप फिल्म को लेकर बहुत उत्साहित हो रहे हों, उनके पीछे-पीछे बहुत से दूसरे फिल्मकार भी कुछ हीट फिल्मों के रीमेक की तैयारी में जुटे हुये हैं. खबरों पर गौर किया जाये तो पता चलता है कि आमिर खान भी गुरुदत्त की प्यासा का रीमेक बनाना चाहते हैं. राकेश ओम प्रकाश मेहरा तो प्यासा के लिये बहुत पहले से तैयारी कर रहे हैं. कागज के फूल को लेकर भी कई फिल्मकार बैठे हुये हैं. बांग्ला में तो शबाना और नसीरुद्दीन की इस फिल्म को लेकर खूब चर्चा हुई थी. डेविड धवन चुपके-चुपके और चश्मे-बद्दूर की रीमेक को लेकर तैयारियां कर रहे थे. हीर रांझा को लेकर भी आमिर खान ने कभी घोषणा की थी.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in