पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >पंजाब Print | Share This  

बादल और कैप्टन के कामकाज का फैसला शुरु

बादल और कैप्टन के कामकाज का फैसला शुरु

चंडीगढ़. 30 जनवरी 2012

कैप्टन अमरिंदर सिंह


पंजाब की 117 विधानसभा सीटों के लिये मतदान का सिलसिला शुरु हो गया है. इस चुनाव में राज्य के पौने दो करोड़ मतदाता 1078 उम्मीदवारों के कामकाज का फैसला कर रहे हैं. कड़ाके की ठंड के बाद भी शहरी इलाकों में मतदान को लेकर काफी उत्साह है और मतदान शुरु होने से पहले ही कई इलाकों में लोग अपने मतदान के लिये लाइन लगा कर खड़े हो गये थे. हालांकि शुरुआती दौर में मतदान केंद्रों पर कोई खास भीड़ नहीं है लेकिन उम्मीद जताई जा रही है कि जैसे-जैसे मौसम में ठंड कम होगी, लोगों का घरों से निकलने की गति तेज हो जाएगी.

राज्य में फिलहाल मुख्य तौर से कांग्रेस पार्टी, अकाली दल और भाजपा गठबंधन व पीपल्स पार्टी ऑफ पंजाब और वामदलों का गठबंधन के उम्मीदवार मुकाबले में हैं. कुछ एक जगहों पर निर्दलीय प्रत्याशियों की भी स्थिति ठीक है. हालांकि ताज़ा चुनाव में सबसे बड़ी मुश्किल पीपल्स पार्टी ऑफ पंजाब ने पैदा कर दी है, जिसके कारण जहां भी पीपीपी मैदान में है, उन जगहों पर दूसरे प्रत्याशियों के माथे पर बल जरुर पड़ गये है.

पंजाब के वर्तमान मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल राज्य की लांबी विधानसभा से मैदान में हैं लेकिन इस अकाली नेता के लिये मुकाबला आसान नहीं हैं क्योंकि उनके खिलाफ इस चुनावी मैदान में उनके सगे भाई गुरदास सिंह बादल भी खड़े हैं. चचेरे भाई महेश इंदर सिंह भी प्रकाश सिंह बादल का ही वोट काटने के लिये मैदान में उतरे हुये हैं. हालांकि मतदाताओं का रुझान देखते हुये कहा जा सकता है कि प्रकाश सिंह बादल के लिये चुनाव उतना मुश्किलों से भरा हुआ नहीं है लेकिन जीत होने पर वोटों का अंतर बेहद कम हो सकता है.

राज्य के दूसरे इलाकों में जिन उम्मीदवारों के कामकाज का सोमवार को फैसला होना है, उनमें जलालाबाद से पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल, पटियाला से कांग्रेस प्रत्याशी के बतौर पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, गिदरबाहा से पीपल्स पार्टी ऑफ़ पंजाब के मनप्रीत सिंह बादल, जालंधर से ओलंपियन परगट सिंह, मोहाली से पूर्व केंद्रीय मंत्री बलवंत सिंह रामूवालिया मैदान में हैं.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

dn shastri [] delhi - 2012-01-31 08:58:45

 
  पंजाब मॆ 77 प्रतिशत ऒर उत्तरान्चल मॆ 65 प्रतिशत हुऎ मतदान मॆ मॆरा मानना है कि दॊनॊ राज्यॊ मॆ कांग्रेस विरॊधी सरकार बननॆ जा रही है. कांग्रेस की कॆन्द्र सरकार में हुऎ घॊटालॊ सॆ लॊगॊ कॆ अन्दर कांग्रॆस कॆ खिलाफ जनता मॆं मोन भावना बनी है. टी वी चैनलॊ नॆ सरकार का सारा भ्रष्टाचार बाहर दिखा दिया है. दूसरी बात जॊ मैं समझ रहा हूं वह यह कि सत्ता मॆं बॆठॆ लॊगॊ कॆ खिलाफ सत्ता कॆ मद का हॊना है, जो लॊगॊ कॊ कतई पसन्द नही आया है. जन भावना कॆ खिलाफ नॆताऒ की बयानबाजी और गलत हॊतॆ हुये भी अपनी बात कॊ सही ठहराना दॆश की जनता कॊ कतई पसन्द नही आया.हर गलत घॊटालॆ कॊ जनता सॆ छुपाना ऒर उसकॆ समबन्ध मॆ दॆश की जनता कॊ गुमराह करनॆ वालॆ बयान दॆनॆ सॆ जनता मॆ नाराजगी है ऒर मैं समझता हूं, कॆन्द्र मॆ बॆठी कांग्रेस की सरकार कॆ खिलाफ जनता नॆ मतदान किया है. नॆता लॊगों ने 1 अरब की जनता कॊ बॆवकुफ बनानॆ की कॊशिश की. लॆकिन जनता काफी समझदार हॊ चुकी है ऒर पंजाब में अकाली बीजॆपी गठबंधन और उत्तरान्चल मॆ बीजॆपी की सरकार बनॆगी, ऎसा मुझॆ भारी मतदान सॆ लगता है.  
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in