पहला पन्ना >राजनीति >उ.प्र. Print | Share This  

स्टिंग ऑपरेशन में धराये 11 उम्मीदवारों पर एफआईआर

स्टिंग ऑपरेशन में धराये 11 उम्मीदवारों पर एफआईआर

लखनऊ. 31 जनवरी 2012

चुनाव आयोग


चुनाव आयोग ने ऐसे 11 प्रत्याशियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया है, जिन पर चुनाव के दौरान शराब और नगदी बांटने के लिये औद्योगिक घरानों से रिश्वत मांगने के आरोप हैं. उम्मीदवारों द्वारा रिश्वत मांगने का पूरा मामला एक स्टिंग ऑपरेशन के बाद सामने आया था.

राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी उमेश सिन्हा के अनुसार तीन वर्तमान विधायकों सुखलाल, हरपाल सिंह और शाहनवाज राना के अलावा प्रबुद्ध नगर के अलग-अलग इलाके से चुनाव लड़ रहे किरनपाल कश्यप,अयूब जंग, सलीम अंसारी और वीरेन्द्र सिंह चौहान, पीलीभीत जिले के सैय्यद जकी,सहारनपुर के नाहिद हसन, गाजियाबाद के नरेन्द्र सिंह सिसौदिया, मुरादाबाद के जगतपाल सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है.

इन सभी पर आरोप हैं कि इन्होंने छुपे हुये कैमरों के सामने चुनाव के दौरान शराब बांटने और दूसरे तरीके से मतदाताओं को लुभाने के लिये पैसे खर्च करने की बात स्वीकार की थी. इनमें से अधिकांश ने माना था कि ये चुनाव लड़ने के लिये एक से तीन करोड़ रुपये तक खर्च करते हैं.

चुनाव आयोग के अनुसार एक टीवी चैनल ने उत्तर प्रदेश विधानसभा के 11 प्रत्याशियों को चुनावों में करोड़ों रुपए खर्च करने और इस काम के लिये चंदा देने वाले कारपोरेट घरानों को बदले में समान सोच वाले विधायकों का समूह बनाकर फायदा पहुंचाने की बात स्वीकार की है,जोकि आईपीसी की धारा 171बी के तहत घूस की श्रेणी में आता है. चैनल पर सारा मामला उजागर होने के बाद चुनाव आयोग ने आयकर विभाग की जांच शाखा को भी जांच के लिये निर्देशित किया था.