पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

सेना प्रमुख के उम्र विवाद पर सुनवाई टली

सेना प्रमुख के उम्र विवाद पर सुनवाई टली

नई दिल्ली. 3 फरवरी 2012

वीके सिंह


सेना प्रमुख वी के सिंह के उम्र का मामला 10 फरवरी तक के लिये टल गया है. उच्चतम न्यायालय में आज इस मामले की सुनवाई होनी थी लेकिन अदालत ने मामले की सुनवाई 10 फरवरी तक के लिये टाल दी गई है. हालांकि आज अदालत ने जनरल सिंह के वकील से पूछा कि इस मामले की सुनवाई ट्रिब्यूनल में क्यों नहीं हो सकती.

गौरतलब है कि उम्र विवाद से नाराज भारतीय सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह ने सरकार के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. यह पहला मौका था कि देश के किसी सेनाध्यक्ष ने सरकार के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी.

25 अगस्त 2011 को जनरल वीके सिंह ने अपनी उम्र को लेकर रक्षा मंत्रालय से शिकायत की थी. जिसमें उन्होंने उनकी उम्र 10 मई,1951 मानने की बात कही थी. दो बार एटार्नी जनरल स्तर पर बात करने के बाद भी रक्षा मंत्रालय ने उनकी शिकायत खारिज कर दी थी.

सेनाप्रमुख जनरल वीके सिंह की उम्र का मामला पहली बार उस समय सामने आया, जब समाजवादी सांसद मोहन सिंह ने राज्यसभा में सरकार से इस संबंध में जानकारी मांगी. उनके सवाल के जवाब में रक्षा मंत्रालय ने कहा कि जनरल वी के सिंह के चयन के दस्तावेज में उनकी जन्म की तारीख 10 मई 1950 बताई गई है. इसी आधार पर उन्हें पदोन्नति भी मिली है. जाहिर है, इसी आधार पर जनरल सिंह को 10 मई 2012 में सेवानिवृत किया जाना तय है.

रक्षा मंत्रालय के इस जवाब पर मोहन सिंह ने सरकार को घेरते हुये पत्र लिखा कि वीके सिंह के मैट्रिक के सर्टिफिकेट में 10 मई 1951 की तारीख दर्ज है. सेना के दस्तावेज में भी जनरल वीके सिंह की दो जन्म तिथियां दर्ज हैं. एडज्यूटेंट जनरल की सेना मुख्यालय शाखा की सूची में यह 10 मई,1951 है. दूसरी ओर मिलिट्री सचिव की शाखा में सिंह की जन्म की तारीख 10 मई, 1950 लिखी हुई है. बाद में अगस्त में जनरल वीके सिंह ने रक्षा मंत्रालय को अपनी जन्म की तारीख सुधारने का आवेदन दिया. लेकिन सरकार की ओर से ऐसा करने से इंकार कर दिया गया. उसके बाद जनरल वीके सिंह ने अदालत में याचिका दायर की.